दिल्ली के रेलवे स्टेशन से बरामद हुई 2000 के नए नोटों की 27 लाख की करेंसी

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-25 19:22:10
दिल्ली के रेलवे स्टेशन से बरामद हुई 2000 के नए नोटों की 27 लाख की करेंसी

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 27 लाख की नई करेंसी बरामद की है। ये करेंसी दिल्ली के हज़रत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के बाहर से एक फॉर्च्यूनर कार से मिली। सभी नोट दो हजार के हैं जो मुम्बई से बदलकर दिल्ली लाए गए थे। क्राइम ब्रांच ने करेंसी लाने वाले दो लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें- एटीएम मशीन पर बदमाशों ने किया हमला, पर नहीं मिले रुपए

क्राइम ब्रांच सूत्रों का कहना है कि ये पैसा दिल्ली के रहने वाले एक बड़े उद्योगपति के हैं जो अभी फ़रार है। नोटबंदी की चोट के बाद जहाँ एक तरफ देश की जनता दो-दो हजार की नई करेंसी पाने को घंटो तक कतारों में खड़ी नज़र आ रही है वहीं दूसरी तरफ कुछ जुगड़बाज ऐसे भी हैं। इन्हें बिना लाइन में लगे लाखों-करोड़ों की नई करेंसी मिल रही है।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे ही रैकेट के लोगों को गिरफ्तार किया है। गुरुवार शाम दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने हज़रत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से दो लोगों पकड़ा। इन दोनों के पास से 27 लाख की नई करेंसी बरामद की गई जो मुंबई से दिल्ली लाई गई थी। दिलचस्प बात ये है कि ये पूरी रकम दो हजार के नोटों में लाई गई थी।

यह भी पढ़ें- चाकू से 18 वार कर के प्रेमी ने प्रेमिका को उतारा मौत के घाट

आरोपियों में अजीत सिंह और राजेंद्र शामिल हैं। ये दोनों दिल्ली के पीतमपुरा के रहने वाले हैं और मुम्बई से पैसा बदलकर दिल्ली ला रहे थे। इस लोगों के पास से मिले सभी नोट दो हजार के हैं। पुलिस का कहना है कि खुफिया जानकारी मिलने के बाद दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया।

पुलिस का दावा है कि अजीत पाल सिंह और राजेंद्र सिंह ट्रेन से जब दिल्ली पहुंचे तो उन्हें लेने के लिए ये सफेद रंग की फॉर्च्यूनर कार वहां पहुंची थी। स्टेशन से निकलने के बाद दोनों आरोपियों ने जैसे ही पैसा गाड़ी में रखा, क्राइम ब्रांच ने उन्हें दबोच लिया। पुलिस का कहना है कि HR 12AB 0002 नंबर की ये कार संजय मलिक नाम के शख्स की है।

यह भी पढ़ें- तीन प्रेमियों के साथ मिलकर पत्नी ने की पति की हत्या

पुलिस सूत्रों का कहना है कि जो पैसा बरामद किया गया है वो भी संजय मलिक का ही है। पुलिस को दिए अपने बयान में अजीत पाल ने कबूला है कि वो संजय मलिक का पड़ोसी है और उनके पैसे लेकर ही मुंबई से संपर्क क्रांति ट्रेन के जरिए दिल्ली आया था। अजित पाल सिंह ने बताया है की वो इनकम टैक्स भरता है। और खुद की सोर्स ऑफ इनकम सैलरी है।


अपराध पर शीर्ष समाचार