नोटबंदी के बाद से ICICI बैंक में जमा हुए 32,000 करोड़ रु.

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-19 14:00:24
नोटबंदी के बाद से ICICI बैंक में जमा हुए 32,000 करोड़ रु.

मुंबई। देश में 500 और 1000 के नोटों का चलन बंद होने के बाद से बैंकों में नकदी बढ़ती जा रही है। देश के टॉप प्राइवेट बैंकों में से एक आईसीआईसीआई बैंक में नोटबंदी के बाद से अब तक 32,000 करोड़ रुपये जमा हुए हैं।

बैंक की एमडी और चीफ एग्जिक्यूटिव चंदा कोचर ने कहा, 'यदि मैं आपको राउंड फीगर में बताऊं तो 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद किए जाने से अब तक हमारे बैंक में लोग 32,000 करोड़ रुपये जमा करा चुके हैं।'

ये भी पढ़ें- नोटबंदी से कालेधन और भ्रष्टाचार में आएगी गिरावट: बिल गेट्स

देश भर में बैंकों और एटीएम में लगी लाइनों के चलते लोगों के गुस्से पर सवाल पूछे जाने पर कोचर ने कहा कि देश में पर्याप्त करेंसी है, लेकिन सभी बैंकों और एटीएम तक इस नई करेंसी को पहुंचाने में वक्त लग रहा है।

कोचर ने कहा कि एटीएम से 500 रुपये निकलने शुरू हो गए हैं और इनके बाजार में पहुंचते ही कैश का दबाव खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा कि हमने लोगों को राहत देने के लिए मोबाइल एटीएम की व्यवस्था शुरू की है, जिन्हें छोटे शहरों में अस्पताल या फिर अन्य किसी सार्वजनिक स्थानों के पास में पार्क किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- न्यूनतम समर्थन मूल्यः गेंहू 100 रु. व दालों का 550 रु. तक बढ़ा

कोचर ने कहा कि बड़े पैमाने पर लोग बैंकिंग में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर जा रहे हैं। इसके अलावा कारोबारियों की ओर से भी डेबिट और क्रेडिट कार्ड पेमेंट के लिए बड़े पैमाने पर स्वाइप मशीनों की मांग की जा रही है।

ये भी पढ़ें- ईबे पर ऑनलाइन बिक रहे हैं 2000 के नोट

ग्राहकों की बात करते हुए चंदा कोचर ने कहा कि बड़े पैमाने पर लोग एटीएम कार्ड्स का इस्तेमाल करने लगे हैं, जो लंबे समय से रखे हुए थे। कोचर ने कहा कि आईसीआईसीआई बैंक उन 5,000 इलाकों में अपनी शाखाएं खोलने की तैयारी कर रहा है, जो अब तक बैंकिंग से अछूते हैं।


बिजनेस पर शीर्ष समाचार