Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

95% इंजीनियर सॉफ्टवेयर डेवलेपमेंट ज़ॉब के लिए फिट नहीं: सर्वे

Edited By: Vijayashree Gaur
Updated On : 2017-04-21 01:19:55
 95% इंजीनियर सॉफ्टवेयर डेवलेपमेंट ज़ॉब के लिए फिट नहीं: सर्वे
95% इंजीनियर सॉफ्टवेयर डेवलेपमेंट ज़ॉब के लिए फिट नहीं: सर्वे

नई दिल्ली। भारत के आईटी और डेटा साइंस इकोसिस्टम में टैलेंट की कमी है। हाल ही में हुआ एक सर्वे बताता है कि देश के 95 फीसदी इंजीनियर सॉफ्टवेयर डेवेलपमेंट जॉब के लिए पूरी तरह से फिट नहीं है।

यह भी पढ़ें- नोटबंदी से घटी अर्थव्यवस्था की गति , IMF ने की 0.4 की कटौती

रोजगार योग्यता आंकलन कंपनी एस्पाइरिंग माइंड्स की स्टडी के मुताबिक, सिर्फ 4.77 फीसद कैंडीडेट ही प्रोग्राम के लिए सही लॉजिक लिख सके। यह प्रोग्रामिंग जॉब करने के लिए न्यूनतम योग्यता है।

500 से अधिक कालेजों में आईटी से जुड़ी शाखाओं के 36,000 से अधिक अभियांत्रिकी विद्यार्थियों ने आटोमाटा (सॉफ्टवेयर विकास कौशल का मशीन आधारित आकलन) में भाग लिया और इनमें से दो तिहाई तो सही कोड ही नहीं लिख पाए। अध्ययन में कहा गया है कि जहां 60 प्रतिशत से अधिक प्रत्याशी उचित कोड नहीं लिख पाए वहीं केवल 1.4 प्रतिशत ही सही व प्रभावी कोड लिख पाए।

यह भी पढ़ें- जियो का एक और धमाका, टेलीकॉम कंपनियों के मिलेगी टक्कर

एस्पाइरिंग माइंड्स के सीटीओ और को-फाउंडर वरुण अग्रवाल ने बताया कि प्रोग्रामिंग कौशल का अभाव भारत में आईटी और डेटा साइंस इकोसिस्टम को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर रहा है। साफ्टवेयर प्रोग्रामिंग के मामले में दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही है और भारत को इस पर गौर करना होगा।

उन्होंने बताया कि रोजगार योग्यता में आई इस खामी को वास्तव में विभिन्न समस्याओं के लिए कंप्यूटर पर प्रोग्राम लिखने के बजाय केवल पढ़ाई आधारित प्रणाली के तौर पर देखा जा सकता है। इसके अलावा, टियर-1 कॉलेजों की तुलना में टियर-III कॉलेजों के लिए प्रोग्रामिंग कौशल करीब पांच गुना कमतर होता है, यानी खराब होता है।


बिजनेस पर शीर्ष समाचार


x