'आप' के 27 और विधायकों की सदस्यता खतरें में, राष्ट्रपति ने दिए जांच के आदेश

Edited by: Editor Updated: 14 Oct 2016 | 07:05 PM
detail image

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी की मुश्किलें दिन ब दिन बढ़ती जा रही हैं। 21 विधायकों को संसदीय सचिव बनाने के मामले में फंसी आम आदमी पार्टी के 27 और विधायकों की सदस्यता पर खतरा मंडरा रहा है। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 27 विधायकों की सदस्यता रद करने वाली याचिका चुनाव आयोग को भेज दी है। राष्ट्रपति ने चुनाव आयोग से मामले की जांच के लिए कहा है।

आम आदमी पार्टी के ये 27 विधायक लाभ के पद के मामले में फंसे हैं। इन विधायकों को अलग-अलग अस्पतालों में रोगी कल्याण समिति का चेयरमैन बनाया गया था। हालांकि इन 27 विधायकों में संसदीय सचिव मामले में फंसे कुछ विधायक भी शामिल हैं।

कानून के छात्र विभोर आनंद ने चुनाव आयोग में एक शिकायत दी है। इसमें आरोप लगाया है कि 27 'आप' विधायक रोगी कल्याण समिति में अध्यक्ष के पद पर होने के नाते लाभ के पद पर हैं। ऐसे में नियमों के तहत इन 27 'आप' विधायकों की विधानसभा सदस्यता रद की जाए। विभोर आनंद ने अपनी शिकायत में यह तर्क दिया है कि रोगी कल्याण समिति में विधायक सदस्य के तौर पर शामिल हो सकता है, लेकिन अध्यक्ष के पद पर नहीं।