Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

आरुषी हत्याकांड: इलाहाबाद HC ने तलवार दंपति को किया बरी

Edited By: Shivani
Updated On : 2017-10-12 08:37:02
आरुषी हत्याकांड: इलाहाबाद HC ने तलवार दंपति को किया बरी
आरुषी हत्याकांड: इलाहाबाद HC ने तलवार दंपति को किया बरी

इलाहाबाद। नोएडा के बहुचर्चित आरुषि-हेमराज हत्याकांड में इलाहाबाद हाईकोर्ट गुरुवार को अपना फैसला सुना दिया है। हाई कोर्ट ने इस मामले में तलवार दंपति को बरी कर दिया है। बता दें कि इस मामले में दोषी पाए गए तलवार दंपति ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। इसी पर अब कोर्ट ने अपना फैसला सुनाकर दोनों को बरी कर दिया है।

कोर्ट का फैसला

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने डॉ. राजेश और नूपुर तलवार को बरी कर दिया है। हाईकोर्ट के जज न्यायमूर्ति फैसना सुनाया। वहीं, फैसला सुनते ही तलवार दंपत्ति रो पड़े।

40 नंबर कमरे में सुनवाई
इलाहाबाद हाई कोर्ट के 40 नंबर कमरे में इस केस पर सुनवाई हो रही है। यहा सीबीआई अफसरों सहित दोनों पक्षों के वकील मौजूद।

हुई थी उम्रकैद की सजा

बता दें कि गाजियाबाद स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने 26 नवंबर, 2013 को राजेश और नुपुर को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। आरोपी दंपति ने सीबीआई कोर्ट गाजियाबाद की ओर से आजीवन कारावास की सजा के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट में अपील दाखिल की है। अब गुरुवार को कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा।

क्या है आरुषि केस?

गौरतलब है कि 15-16 मई 2008 की रात नोएडा के सेक्टर 25 स्थित घर में आरुषि की हत्या का मामला सामने आया था। इसके बाद उसकी हत्या की शक की सुई नौकर हेमराज पर टिक गई थी, लेकिन दो दिन बाद उसका शव घर की छत पर मिलने से मामला ओर गर्मा गया था।

तत्काल मुख्यमंत्री मायावती ने इस केस की जांच सीबीआई के हाथों में सौंप दी थी। सीबीआई को जांच के वक्त कोई सुबूत नहीं मिलने के कारण मामले का संज्ञान लेते हुए तलवार दंपति के खिलाफ मुकदमा चलाया और उन्हें हत्या का दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

तलवर दंपति ने इसी सजा को चुनौती देते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। न्यायमूर्ति बी के नारायण और एके मिश्रा की खंडपीठ ने तलवार दंपति की अपील पर सात सितंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था और फैसला सुनाने की तारीख 12 अक्तूबर को तय की थी। राजेश और नुपुर गाजियाबाद की डासना जेल में सजा काट रहे हैं।

 


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x