Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

IS पर अमेरिकी हमले में 1 भारतीय की मौत, गिरा था 10 हजार किलो का बम

Edited By: Shiwani Singh
Updated On : 2017-04-14 08:20:44
IS पर अमेरिकी हमले में 1 भारतीय की मौत, गिरा था 10 हजार किलो का बम

नई दिल्ली। अमेरिका ने अफगानिस्तान में ISIS पर अब तक के हमले का सबसे बड़ा हमला किया है। अमेरिका ने पूर्वी अफगानिस्तन के नंगरहार में अपना सबसे बड़ा नॉन-न्यूक्लिर बम 'GBU-43' गिराया है। इस हमले में एक भारतीय की भी मौत हो गई है।

करीब 21,000 पाउंड यानी 10 हजार किलो वजनी इस बम को वहां 'मदर ऑफ ऑल बॉम्ब' के नाम से जाना जाता है। यह अमेरिका का सबसे बड़ा बम है। अमेरिका ने आईएसआईएस पर यह हमला अफगानिस्तान में पाकिस्तान बॉर्डर से 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित नंगरहार में आईएक के ठिकाने को निशाना बनाकर किया है।

अमेरिकी सेना के मुताबिक, स्थानीय समय के अनुसार शाम 7.32 बजे गिराए इस सबसे बड़े गैर परमाणु बम के जरिए उन गुफाओं को निशाना बनाया गया, जहां इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने पनाह ले रखी थी।

मार्च 2003 में इराक युद्ध शुरू होने से पहले अमेरिका ने जीपीएस से संचालित इस बम का परीक्षण किया था। व्हाइट हाउस के प्रवक्ता सॉन स्पाइसर ने कहा कि हमने आईएसआईएस लड़ाकों द्वारा इस्तेमाल की जा रही गुफाओं और सुरंगों को निशाना बनाया। आम नागरिकों को कम से कम नुकसान हो, यह सुनिश्चित करने के लिए इस हमले से पहले हमने सभी सुरक्षात्मक उपाय किए थे।

आतंक पर अब तक का सबसे बड़ा प्रहार
अमेरिकी सैन्य मुख्यालय पेंटागन के प्रवक्ता एडम स्टंप ने कहा कि आतंकियों के खिलाफ लड़ाई में पहली बार इस तरह के बम का इस्तेमाल किया गया। उन्होंने बताया कि अमेरिकी फायटर जेट MC-130 के जरिये नंगरहार में आंतकियों की गुफाओं पर यह बम गिराया गया। हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि इस हमले से कितना नुकसान हुआ है।

 


दुनिया पर शीर्ष समाचार


x