सेना का सालों का इंतजार खत्म, भारत खरीदेगा M-777 हॉवित्जर तोप

Edited by: Editor Updated: 22 Oct 2016 | 04:20 PM
detail image

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की अध्यक्षता वाली रक्षा खरीद परिषद ने सालों से लंबित पड़े एम-777 हॉवित्जर तोपों के सौदे पर गुरुवार को मुहर लगा दी। इसी के साथ 1986 में बोफोर्स तोप के बाद अब सेना को एक कारगर तोप मिलने का रास्ता साफ हो गया है।

आपको बता दें कि रक्षा खरीद परिषद ने अमेरिका से 145 अल्ट्रा लाइट हॉवित्ज़र तोपों के सौदे को हरी झंडी दे दी है। इसके साथ ही अच्छी तोप के मामले में सेना का तीस साल पुराना इंतजार जल्द ही खत्म होने जा रहा है।

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की अध्यक्षता वाली डीएसी ने 1986 में बोफोर्स के बाद पहली बार सेना के लिये बढ़िया तोप खरीदने का रास्ता साफ कर दिया है। अब यह मामला कैबिनेट की सुरक्षा मामलों की समिति के पास जाएगा।

गौरतलब है कि 7000 करोड़ की इस डील के तहत अमेरिका भारत को 145 नई तोपें देगा। ऑप्टिकल फायर कंट्रोल वाली हॉवित्ज़र से तक़रीबन 40 किलोमीटर दूर स्थित टारगेट पर सटीक निशाना साधा जा सकता है।

डिजिटल फायर कण्ट्रोल वाली यह तोप एक मिनट में 5 राउंड फायर करती है। 155 एम एम की हल्की हॉवित्ज़र सेना के लिए बेहद अहम होगी, क्योंकि इसको जम्मू-कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश जैसे पहाड़ी क्षेत्रों में आसानी से ले जाया जा सकता है।