जेटली की राज्यसभा में सफाई, नहीं माफ हुआ माल्या का लोन

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-16 18:37:07
जेटली की राज्यसभा में सफाई, नहीं माफ हुआ माल्या का लोन

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक ने 63 कर्जदारों का 7016 करोड़ रुपये का बकाया लोन को डूबा हुआ मान लिया है। इन 63 कर्जदारों में शराब कारोबारी विजय माल्या भी शामिल हैं। ये राशि 100 लोन डिफाल्टरों पर बाकी कुल राशि का करीब 80 प्रतिशत है।

ये भी पढ़ें- कालेधन के बाद अब सोना-हीरा खरीदने वालों पर होगी सर्जिकल स्ट्राइक

बता दें कि माल्या पर विभिन्न बैंकों का नौ हजार करोड़ रुपये बकाया है। वो अभी देश से फरार हैं। इस मामले में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को सफाई दी कि राइट ऑफ का ये मतलब नहीं है कि लोन माफ कर दिया गया है।

वित्त मंत्री ने कहा, 'राइट ऑफ करने का मतलब सिर्फ इतना होता है कि बैंक द्वारा अकाउंटिंग बुक में लोन को नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स मान लिया गया है। राइट ऑफ करने को लोन का मतलब लोन की माफी नहीं होता। लोन की रिकवरी के प्रयास अब भी जारी रहेंगे।'

ये भी पढ़ें- बैंकों से कालेधन को सफेद करने का तरीका पूछ रहे हैं लोग

गौरतलब है कि जिन कर्जदारों का लोन डूबा हुआ माना गया है, उनमें टॉप 20 में किंगफिशर एयरलाइंस (1201 करोड़),केएस ऑयल (596 करोड़), सूर्या फार्मास्यूटिकल्स (526 करोड़), जीईटी पावर (400 करोड़) और साई ईन्फो सिस्टम (376 करोड़) हैं।


बिजनेस पर शीर्ष समाचार