भरी कचहरी में युवती को जबरन उठाने का प्रयास

Edited by: Editor Updated: 02 Jul 2017 | 03:44 PM
detail image

बांदा। कोर्ट के आदेश पर नारी निकेतन से बयान देने आई युवती को वापस जाते समय परिवार के लोगों ने जबरन घर ले जाने का प्रयास किया। जिसको लेकर किशोरी व प्रेमी पक्ष के लोगों में भरी कचहरी में बंदूकें तन गई। सूचना मिलने पर मौके पर आई पुलिस ने मामले को सुलझाया। युवती की शिकायत को अदालत ने संज्ञान लेते हुए सुनवाई के लिए 3 जुलाई की तिथि नियत की है।

यह भी पढ़ें- घर से भागीं बुआ-भतीजी लौंटी,प्रेमियों संग हुईं थीं फरार

नरैनी थाना क्षेत्र की रहने वाली लड़की 2 जून को रहस्यमय तरीके से प्रेमी के साथ घर से गायब हो गई थी। पिता ने इस संबंध में थाने में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। मुकदमा दर्ज होने की सूचना मिलते ही प्रेमी युगल ने हाईकोर्ट की शरण ली। दाखिल रिट में उम्र का प्रमाण देते हुए याचना की कि उन्हें विवेचना पूरी होने तक गिरफ्तार न किया जाए। हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिए कि विवेचना पुरी होने तक प्रेमीयुगल को गिरफ्तार न किया जाए।

किशोरी का डाक्टरी परीक्षण कराने के बाद उसके स्थानीय कोर्ट में धारा 164 के बयान दर्ज कराए जाएं। हाईकोर्ट के आदेश पर पुलिस ने 15 जून को किशोरी का डाक्टरी परीक्षण कराया। कोर्ट में बयान न होने पर किशोरी को कोर्ट के आदेश पर नारी निकेतन भेज दिया गया। शनिवार को पुलिस ने किशोरी को बयानों के लिए प्रथम अपर जिला जज की कोर्ट में पेश किया।

बयान दर्ज होने के बाद कोर्ट ने आदेश दिए कि वह अपनी स्वेच्छा से किसी के साथ जा सकती है। युवती ने फैसला किया कि वह प्रेमी के साथ जाएगी। जैसे ही वह प्रेमी के साथ जाने के लिए कोर्ट से बाहर निकली तभी उसके परिजन उसे जबरन गाड़ी में डालकर घर ले जाने लगे। जिस पर प्रेमी के परिजनों ने विरोध किया। दोनो में नोंकझोक हुई और बंदूके तन गईं।

यह भी पढ़ें- बुंदेलखंड को हरा-भरा बनाएगी केंद्र सरकार की मनरेगा योजना

सूचना पर मौके पर आई पुलिस ने दोनो पक्ष को शांत कराया। बाद में युवती ने इसकी शिकायत अदालत में की। अदालत ने मामले को संज्ञान लेते हुए सुनवाई की अगली तिथि 3 जुलाई नियत की और किशोरी को पुलिस सुरक्षा में अल्पागृह में रखे जाने के निर्देश दिए।