Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

फर्जी घोषित हुए बाबा ने अखाड़ा परिषद को ही बताया फर्जी, भेजा नोटिस

Edited By: Pooja
Updated On : 2017-09-12 09:00:13
फर्जी घोषित हुए बाबा ने अखाड़ा परिषद को ही बताया फर्जी, भेजा नोटिस via
फर्जी घोषित हुए बाबा ने अखाड़ा परिषद को ही बताया फर्जी, भेजा नोटिस

लखनऊ। अखाड़ा परिषद के द्वारा 14 फर्जी बाबाओं की सूची जारी होने के बाद एक बाबा ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी को ही नोटिस भेज दिया है। उनका कहना है कि नरेंद्र गिरि खुद भी फर्जी है, उनकी छवि भी पाक-साफ नहीं है।

बता दें कि बीते रविवार अखाड़ा परिषद की ओर से 14 बाबाओं को फर्जी घोषित किया गया था। जिसमें आशाराम बापू से लेकर निर्मल बाबा तक का नाम शामिल है। अखाड़ा परिषद फर्जी बाबाओं की इस सूची को आज सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपेगा। साथ ही अखाड़ा परिषद की ओर से ये मांग भी रखी गई है कि इन फर्जी बाबाओं को 2019 में होने वाले अर्द्ध कुंभ में आश्रम यश अखाड़ा बनाने के लिए न तो जमींन दी जाए और न ही उन्हें अन्य कोई सरकारी सुविधाएं दी जाए।

यह भी पढ़ें-अखाड़ा परिषद ने जारी की फर्जी बाबाओं की सूची, जानें लिस्ट में हैं किनके नाम

वहीं, अखाड़ा परिषद की ओर से जारी की गई इस लिस्ट में फर्जी घोषित किए गए इलाहाबाद के सिद्धेश्वरी गुप्त महापीठ के महंत कुश मुनि की वकील ज्योति गिरी ने अखाड़ा के अध्यक्ष को नोटिस भेजते हुए कहा कि आपने आचार्य कुश मुनि को निराधार तथ्यों के आधार पर फर्जी बाबाओं की लिस्ट में शामिल किया है। इस फर्जी लिस्ट से उनका नाम हटा दीजिए, नहीं तो आपके ऊपर मानहानि का मुकदमा दर्ज किया जा सकता है।

इस मामले पर महंत कुश मुनि ने कहा कि मैं नरेंद्र गिरी के कहने से फर्जी साबित नहीं हो जाउंगा। इनसे तो मैं न्यायालय में निपटूंगा। वहीं, बरेली के एक बाबा ने कहा कि कौन सिद्ध पुरुष है, ये नापने का उनके पास क्या पैमाना है। उन्होंने हमको बाबा नहीं बनाया, फिर वो किसी को साधु होने न होने का सर्टिफिकेट कैसे दे सकते हैं।

वहीं, दूसरी ओर इलाहाबाद के डीएम संजय कुमार ने कहा है कि अखाड़ा परिषद ने हमें ज्ञापन सौंपा है। इस संबंध में वो सीएम योगी से बातचीत करेंगे। इस बातचीत में यदि ये समझा गया कि अर्द्ध कुंभ में इन बाबाओं को कोई सुविधाएं नहीं दी जानी चाहिए तो ये आज तय हो जाएगा।


उत्तर प्रदेश पर शीर्ष समाचार


x