मोदी-पुतिन की मुलाकात से पहले भारत की रूस को चेतावनी, NSG पर साथ दो वरना..

Edited by: Editor Updated: 17 May 2017 | 04:06 PM
detail image

नई दिल्ली। व्लादिमीर पुतिन और नरेन्द्र मोदी की मुलाकात से पहले भारत ने अपने सबसे करीबी दोस्त को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर उसे परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (NSG) की सदस्यता नहीं मिल पाती है तो वह परमाणु ऊर्जा विकास के अपने कार्यक्रम में विदेशी पार्टनर्स से सहयोग करना बंद कर देगा।

यह भी पढ़ें- OBOR फोरमः भारत ने किया बहिष्कार, CPEC पर चीन से बातचीत का आग्रह

भारत ने साफ कह दिया है कि ऐसी स्थिति में वह रूस के साथ कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा परियोजना की 5वीं और 6वीं रिऐक्टर यूनिट्स को विकसित करने से जुड़े MoU को ठंडे बस्ते में डाल सकता है।

आपको बता दें कि वर्तमान परिस्थिति देखकर भारत ने यह महसूस किया कि चीन के पींगे बढ़ा रहा रूस भारत को एनएसजी सदस्यता दिलवाने के लिए अपनी 'क्षमताओं' का पूरा इस्तेमाल नहीं कर रहा है। ऐसे में अब भारत ने भी अपना रुख कड़ा कर लिया है।

यह भी पढ़ें- ट्रंप और पुतिन ने सीरिया-कोरिया मुद्दे पर फोन पर की बात

गौरतलब है कि वैश्विक मुद्दों पर चीन के साथ खड़े नजर आने वाले रूस से भारत यह उम्मीद करता रहा है कि वह भारत की एनएसजी सदस्यता के लिए चीन पर दवाब डालेगा। अब तो रूस को भी यह महसूस होने लगा है कि भारत कुडनकुलम एमओयू को लेकर जानबूझकर देरी कर रहा है ताकि वह एनएसजी सदस्यता के लिए रूस पर दबाव डाल सके।