Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

भारत छोड़ो आंदोलन 75 साल: बोले मोदी, युवाओं ने इस आंदोलन को आगे बढ़ाया

Edited By: Shiwani Singh
Updated On : 2017-08-09 11:41:44
भारत छोड़ो आंदोलन 75 साल: बोले मोदी, युवाओं ने इस आंदोलन को आगे बढ़ाया
भारत छोड़ो आंदोलन 75 साल: बोले मोदी, युवाओं ने इस आंदोलन को आगे बढ़ाया

नई दिल्ली। संसद में आज भारत छोड़ों आंदोलन के 75 साल पूरे होने पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। इस पर राज्यसभा में चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज भारत छोड़ों आंदोलन को 75 साल पूरे हो गए हैं। आज के ही दिन गांधी जीने करो या मरो का नारा दिया था। उन्होंने आज के दिन को गौरव का दिन बताते हुए कहा कि आज के दिन की स्वतंत्रता में काफी महत्वपूर्ण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत छोड़ों आंदोलन के समय महापुरुषों के बलिदान को नई पीढ़ी तक पहुंचाना जरूरी है। जब इस आंदोलन के 25 साल और 50 साल हुए थे तब भी इसका महत्व था लेकिन 75 साल पूरे होना बड़ी बात है। देश के इतिहास में 9 अगस्त की बड़ी भूमिका थी, अंग्रेजों ने इसकी कल्पना नहीं की थी।

पीएम ने कहा इस दौरान महात्मा गांधी और बड़े नेता जेल गए थे, तब नए नेताओं ने जन्म लिया था, जिनमें लाल बहादुर शास्त्री, राममनोहर लोहिया जैसे नेता शामिल थे। वहीं, इसके पहले 1857 में पूरे देश में आजादी का बिगुल बजा था।

मोदी ने कहा कि इस आंदोलन में नारा था कि भारत छोड़ो, इस दौरान महात्मा गांधी का 'करेंगे या मरेंगे' कहना बड़ी बात है। उस दौरान गांधी ने कहा कि मैं स्वतंत्रता से कम पर संतुष्ट होने वाला नहीं हूं। हम या तो करेंगे या मरेंगे।

वहीं, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि हमारे देश के जवानों में देश की सुरक्षा करने की क्षमता है। देश के लिए सबसे बड़ी चुनौती आतंकवाद है। जेटली ने कहा कि देश के कई हिस्सों में जो लोग संविधान को नहीं मानते हैं, वो संविधान पर आक्रमण कर रहे हैं।

बता दें कि 9 अगस्त को भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत मानी जाती है। पर बहुत कम लोगों को पता है कि ये आंदोलन 8 अगस्‍त 1942 से आरंभ हुआ था। दरअसल, 8 अगस्‍त 1942 को बंबई के गोवालिया टैंक मैदान पर अखिल भारतीय कांग्रेस महासमिति ने वह प्रस्ताव पारित किया था, जिसे 'भारत छोड़ो' प्रस्ताव कहा गया। इसके बाद से ही ये आंदोलन व्‍यापक स्‍तर पर आरंभ किया गया।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x