6000 करोड़ की नकदी के साथ बिजनेसमैन ने किया आत्मसमर्पण

Edited by: Editor Updated: 14 Nov 2016 | 06:37 PM
detail image

नई दिल्ली। जब से पीएम मोदी ने 500 और 1000 के नोटों को बैन किया है तब से काला धन रखने वालों की रातों की नींद उड़ी हुई है। जब से पता चला है कि ये सारे नोट अब किसी काम के नहीं है तब से इन नोटों को खपाने के अजीबो-गरीब तरीके सामने आ रहे हैं।

कहीं कोई गंगा और यमुना में नोट फेंक रहा है तो कहीं कोई बोरे में भर कर नोटों को कूड़े में डाल रहा है। कुछ जगह से ऐसी ख़बरे भी आ रही हैं कि लोग गुस्से में 500 और 1000 के नोटों को आग में जला रहे हैं।

ये भी पढ़ें- पानी में डुबोने से नहीं निकला 2000 रु. नोट का रंग

लेकिन सूरत के एक बिजनेसमैन ने चौंकाने वाला कदम उठाया है। सूत्रों के मुताबिक सूरत के हीरा व्यापारी और प्रसिद्ध बिल्डर लाल जी भाई पटेल ने 6000 करोड़ की नकदी के साथ आत्मसमर्पण कर दिया। पटेल पिछले कई सालों से समाजसेवा के लिए चैरिटी को दान करते आए हैं।

बता दें कि अगर यह बात सच है, तो उस बिजनेसमैन को पूरे टैक्स और जुर्माने सहित कुल 5,400 करोड़ रुपये देने होंगे, जिसमें 30 फीसदी टैक्स और 200 फीसदी जुर्माने की रकम शामिल होगी।

ये भी पढ़ें- करेंसी बंदी के बाद हवाला व्यापार में आई 80 फीसदी की गिरावट

गौरतलब है कि लालजी भाई पटेल मोदी का सूट और जैकेट खरीद कर चर्चा में आए थे। ये देश के धनी बिल्डर और हीरा व्यापारियों में से आते हैं। ये अक्सर अपने कर्मचारियों को महंगे गिफ्ट देने के लिए भी जाने जाते हैं।