सर्दियों ऐसे रखें छोटे बच्चों का ख्याल

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-15 17:54:21
सर्दियों ऐसे रखें छोटे बच्चों का ख्याल

नई दिल्ली। सर्दियों ने दस्तक देनी शुरु कर दी है। ठंड में सभी लोगों को खास सावधानी रखनी पड़ती है, लेकिन जब बात बच्चों की हो तो किसी तरह की कोताही नहीं बरतनी चाहिए।

छोटे बच्चें इस मौसम में कई तरह के संक्रमण के शिकार हो जाते हैं।इसलिए हम यहां पर आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे टिप्स जिससे आपके बच्चें बिना बीमार हुए इस सर्दी का मजा उठा सकेंगे।

ध्यान देने वाली बाते...

1.बच्चों के कपड़े का सर्दियों में विशेष ध्यान रखें। कपड़े की थोड़ी सी भी लापरवाही बच्चे को भारी पड़ सकती है। इसलिए जैसे ही मौसम बदले, बच्चे को गर्म कपड़े पहनाना शुरु कर दें। हल्की ठंड को नजरअंदाज ना करें और बच्चे को हमेशा मोजे पहना कर रखें।

2.छोटे बच्चों को सर्दी में रोज नहीं नहलाना चाहिए। छोटे बच्चे को रोज नहलाने के बजाय हर दूसरे दिन गर्म पानी में सॉफ्ट एंटीबैक्टीरियल लिक्विड डालकर उसमें नर्म तौलिया भिगोंकर उनका शरीर साफ कर दें।

हांलाकि थोड़े बड़े बच्चों को रोजाना नहलाना चाहिए। अगर सर्दी-जुकाम है तो एक दिन छोड़कर भी नहला सकते हैं। रोजाना नहलाने से बच्चे कीटाणुओं से दूर रहते हैं।

3.मालिश से जहां बच्चे की मांस पेशियां मजबूत रहती हैं, वहीं इसके साथ बच्चों का शरीर गर्म भी रहता है। इसलिए सर्दी के मौसम में बच्चों की मालिश जरुर करें। मालिश करते समय गर्म तेल का प्रयोग करें।

4.अगर आपके घर में धूप आती है, तो बच्चे को गर्म कपड़े पहना कर थोड़ी देर के लिए धूप में रखें। उसे ताजी हवा और विटामिन डी दोनों मिलगा।

5. सर्दी में भूल से भी बच्चे को ठंडी चीजें ना खिलाएं। अगर आपका बच्चा 7 माह से अधिक का है और वह खाना खाता है, तो उसे ठंडी चीजें न खिलाएं और साथ ही उसे बासी खाना या ठंडा खाना भी न दें।

6. स्वेटर हमेशा अच्छी क्वालिटी का पहनाएं, क्योंकि वूलन से कभी-कभी त्वचा में एलर्जी हो जाती है।

7. अक्सर ठंड में बचाने के लिए बच्चों को हीटर और ब्लोअर से गर्म कमरे में रखा जाता है, लेकिन यह आदत बच्चों के लिए अक्सर बीमारी की वजह बन जाती है।कमरे का तापमान हमेशा सामान्य होना चाहिए। अधिक गर्म वातावरण से अगर बच्चा सामान्य तापमान में जाता है तो उसे तुरंत सर्दी असर करती है।

8.बच्चे का बिस्तर गर्म रखें। उसके सोने से पहले हॉट वॉटर बॉटल रखकर बिस्तर को गर्म कर लें, लेकिन ध्यान रहें कि बच्चे के सोने से पहले बॉटल वहां से हटा दें।

9.एक साल तक के बच्चों को मां के दूध के अलावा जरूरत पड़ने पर फॉर्म्युला मिल्क (नैन, लैक्टोजन आदि) दें। इसके बाद दो साल के बच्चों को फुल क्रीम दूध दें। यह उम्र बच्चे के दिमाग और आंखों के विकास के लिहाज के काफी अहम होती है।

10.बच्चों को सीजनल सब्जियां दें। उन्हें सारे फल भी खिला सकते हैं। फल में हल्का नमक लगा कर खिलाने से सर्दी होने का खतरा नहीं रहता है। साथ ही शाम के समय फल ना खिलाएं। शाम के समय फल खिलाने से सर्दी लगने का खतरा रहता है।

11.बच्चे को रोजाना बादाम, काजू, किशमिश दे सकते हैं। इसके साथ ही दूध में केसर मिलाकर बच्चों को पिलाने से सर्दी में फायदेमंद रहता है। बच्चे को रोजाना अंडा भी खिलाएं। अंडे से आपके बच्चे का शरीर गर्म रहता है।

12.च्यवनप्राश सर्दी में बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद होता है, इसलिए सर्दी में रोजाना एक चम्मच बच्चे को च्यवनप्राश जरुर खिलाएं। बच्चे को हो सकें तो दूध में हल्दी मिलाकर भी पिलाएं।