23 दिसंबर से राम मंदिर निर्माण का कार्य शुरू !

Edited by: Ankur_maurya Updated: 12 Nov 2017 | 09:58 PM
detail image

नई दिल्ली। पिछले कई दिनों से अयोध्या में राम मंदिर को लेकर मीटिंग चल रही है। राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के बाहर समझौते की कोशिश हो रही है। वहीं इस मामले में आपसी सहमति से सुलझाने की कोशिशें पिछले कुछ दिनों से परवान चढ़ी हैं।

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अयोध्या में आज इस मामले के पक्षकार और हनुमानगढ़ी के महंत धर्मदास सहित दूसरे महंतों से मुलाकात की और महंत से मुलाकात के बाद रिजवी ने कहा कि हमलोग मंदिर निर्माण को लेकर एक ऐसा समाधान निकालने की कोशिश कर रहे हैं जिसे लेकर 5 दिसंबर से पहले हम कोर्ट में जा सकें।

कई सालों से राम मंदिर का मामला अदालत में है, लेकिन पिछले कुछ दिनों में राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद को कोर्ट के बाहर आपसी सहमति से सुलझाने की कोशिशें तेज हुई हैं। यही कारण है कि मामले के पक्षकार और हनुमानगढ़ी के महंत धर्मदास इस बार फुल कॉन्फिडेंस में दिख रहे हैं और मंदिर निर्माण की तारीख की घोषणा भी कर रहे हैं।

100 साल से ज्यादा गुजर गए लेकिन राम मंदिर का मामला एक अदालत से दूसरे अदालत में ही अटका रहा लेकिन जब देश की सर्वोच्च अदालत ने इस मामले का निपटारा आपसी सुलह समझौते से करने की बात कही तो इस विवाद को कोर्ट से बाहर सुलझाने की कोशिशें तेज हुई, लेकिन कोर्ट के बाहर इस मसले को सुलझाना इतना आसान नहीं है।

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष भले ही मंदिर बनाने के पक्ष में हैं लेकिन सुन्नी वक्फ बोर्ड ने हमेशा सुलह समझौते की बात से इनकार किया है। ऐसे में देखने वाली बात है कि इस बार समझौते की कोशिश कामयाब हो पाती है कि नहीं।