Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

कोर्ट ने NDMC को मानसिंह होटल की निलामी की दी इजाजत

Edited By: Vijayashree Gaur
Updated On : 2017-04-21 00:08:54
कोर्ट ने NDMC को मानसिंह होटल की निलामी की दी इजाजत
कोर्ट ने NDMC को मानसिंह होटल की निलामी की दी इजाजत

नई दिल्ली। दिल्ली के 5-स्टार होटल मानसिंह का संचालन अभी टाटा समूह की कंपनी इंडियन होटल्स कर रही है। सुप्रीम कोर्ट ने नई दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) को ताज मानसिंह होटल की नीलामी की इजाजत दे दी है। नीलामी ऑनलाइन होगी।

यह भी पढ़ें- दिल्लीः महिला कांग्रेस अध्यक्ष का इस्तीफा, कहा- राहुल बने अध्यक्ष तो होगा डिजास्टर

नीलामी में इंडियन होटल्स भी शिरकत करेगी। जस्टिस पी.सी. घोष और आर.एफ. नरीमन की बेंच ने स्पष्ट किया कि अगर यह कंपनी ई-नीलामी में हार जाती है तो उसे होटल खाली करने के लिए छह माह का वक्त मिलेगा।

कोर्ट ने यह भी कहा कि नीलामी के वक्त इंडियन होटल्स के दाग-रहित रिकॉर्ड का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। इंडियन होटल्स ने नीलामी के एनडीएमसी के फैसले को दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। कोर्ट ने पिछले साल 27 अक्टूबर को याचिका खारिज करते हुए कहा था कि कंपनी को लाइसेंस रिन्युअल का ‘अधिकार’ नहीं है।

यह भी पढ़ें- MCD चुनावः बाल-बाल बचे AAP विधायक, चली गोलियां

दूसरी ओर, निगम को अपनी प्रॉपर्टी पर अधिकतम राजस्व पाने का हक है। सिंगल बेंच के इस फैसले को हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने भी बरकरार रखा था। कहा था कि कंपनी को लाइसेंस एक्सटेंशन का अधिकार नहीं है। इंडियन होटल्स ने इस निर्णय को 8 नवंबर 2016 को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

एनडीएमसी ने 3 मार्च को कहा था कि वह ई-नीलामी करना चाहती है। इसके बाद कोर्ट ने इंडियन होटल्स से एक हफ्ते में आपत्ति दायर करने को कहा था। कंपनी ने कहा, यह साफ नहीं है कि एनडीएमसी होटल क्यों नीलाम करना चाहता है। उसे अभी काफी राजस्व मिल रहा है।

यह भी पढ़ें- कर्नाटकः तय वक्त से पहले विधानसभा चुनाव में उतर सकती है कांग्रेस!

निगम के विशेषज्ञ भी मानते हैं कि किसी और को होटल दिया गया तो निगम को कम राजस्व मिलेगा। सुप्रीमकोर्ट ने निगम से नीलामी के फैसले पर पुनर्विचार करने को कहा था। क्योंकि एटॉर्नी जनरल और सॉलिसिटर जनरल ने इसके खिलाफ राय दी थी।

आंतरिक रिपोर्ट में निगम के अधिकारियों ने भी नीलामी का विरोध किया था। एनडीएमसीने यह प्रॉपर्टी इंडियन होटल्स को 33 साल की लीज पर दी थी। लीज अवधि 2011 में पूरी हो चुकी है। इसके बाद निगम कंपनी को नौ बार एक्सटेंशन दे चुका है। तीन एक्सटेंशन तो 2016 में ही दिए गए।


अन्य राज्य पर शीर्ष समाचार


x