DM सुसाइड: लिखा- पत्नी और मां-बाप के झगड़े से परेशान हूं, इसलिए की खुदकुशी

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 11 Aug 2017 | 09:29 AM
detail image

नई दिल्ली। बिहार के बक्सर जिले के एक डीएम ने गुरुवार रात यूपी के गाजियाबाद में ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली। डीएम का नाम मुकेश पांडे है। लीला पैलेस होटल से मिले सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा कि, 'मैं अपनी पत्नी और अपने मां-बाप के बीच हो रहे झगड़े से बेहद परेशान हूं। इस वजह से यह कदम उठा रहा हूं'।

वहीं, गुरुवार को मुकेश के ससुर ने सरोजिनी नगर पुलिस स्टेशन में उनके लापता होने की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। बता दें कि बिहार के बक्सर जिले के डीएम मुकेश पांडे बुधवार देर रात बक्सर से दिल्ली के लिए निकले थे। सूत्रों की मानें तो दिल्ली आने के पीछे उन्होंने वजह बताई थी कि उनके मामा को हार्ट अटैक आया है।

दिल्ली पहुंचने के लगभग 14 घंटे बाद मुकेश पांडे ने ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी कर ली। मुकेश के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उन्होंने अपनी मर्जी से खुदकुशी करने की बात लिखी है। पुलिस सूत्रों की मानें तो सुसाइड नोट में चार फोन नंबर भी लिखे हुए हैं। यह सभी नंबर परिवार वालों के हैं।

वहीं, सुसाइड नोट में एक जगह लिखा है कि विस्तृत सुसाइड नोट बैग में है। उन्होंने लिखा, 'वह बैग दिल्ली के लीला पैलेस होटल के कमरा नंबर-742 में है। मेरे बैग में एक और सुसाइड नोट है, जिसमें पूरी जानकारी है।
लीला होटल से मिले सुसाइड नोट में लिखा है कि 'मैं अपनी पत्नी और अपने मां-बाप के बीच हो रहे झगड़े से बेहद परेशान हूं। इस वजह से यह कदम उठा रहा हूं'। बताते चलें कि मुकेश की 3 महीने की एक बच्ची है।

पुलिस के मुताबिक, सबसे पहले वो शाम 6 बजे दिल्ली के जनकपुरी स्थित डिस्ट्रिक्ट सेंटर खुदकुशी करने पहुंचे। यहां पर उन्होंने परिजनों को व्हाट्सएप करके खुदकुशी करने की जानकारी दी। इसके बाद आनन-फानन में पुलिस वहां पहुंची तो मुकेश पांडे अपना फोन होटल में छोड़कर गायब हो गए।

पुलिस वहां पहुंची लेकिन मुकेश का कुछ पता नहीं चला। रात करीब साढ़े आठ बजे गाजियाबाद में रेलवे ट्रैक पर उनका शव बरामद हुआ। बताते चलें कि बीते 4 अगस्त को ही उन्हें बक्सर का डीएम नियुक्त किया गया था।

बक्सर से पहले मुकेश बेगूसराय के बलिया अनुमंडल में एसडीएम व कटिहार में डीडीसी के पद पर सेवा दे चुके थे। UPSC परीक्षा 2012 में 14वीं रैंक लाने वाले मुकेश पांडे को साल 2015 में संयुक्त सचिव रैंक में प्रमोशन मिला था। फिलहाल पुलिस मामले की बारीकी से जांच कर रही है।