Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

23 दिसम्बर के बाद प्रदेश में लागू हो सकती है आचार संहिता

Edited By: Editor
Updated On : 2016-12-03 19:28:37
 23 दिसम्बर के बाद प्रदेश में लागू हो सकती है आचार संहिता
23 दिसम्बर के बाद प्रदेश में लागू हो सकती है आचार संहिता

देहरादून। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरु हो गई है। निर्वाचन आयोग चुनाव की तैयारी का पूरा रोडमैप बना चुका है। प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तैयारी चल रही हैं तो वहीं, सियासी गलियारों में अब इस बात की सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है कि आखिर विधान सभा चुनाव की तारीख कब घोषित होगी। यानि प्रदेश में चुनाव आचार संहिता कब लागू होगी।

निर्वाचन आयोग के सूत्रों कि माने तो 23 दिसंबर के बाद प्रदेश में कभी भी आचार संहिता लागू हो सकती है। दरअसल 2012 के विधानसभा चुनाव की अधिसचूना 24 दिसंबर को जारी हुई थी। मुख्य निर्वाचन अधिकारियों का भी कहना है कि चुनाव की तैयारी अंतिम चरण में है। ऐसे में राजनीतिक दलों के साथ निर्दलीय प्रत्याशियों की धड़कनों का बढ़ना भी लाजिमी है।

फिलहाल प्रदेश के 10 हजार 854 पोलिंग बूथ पर मतदान होना है। इस बार चार विधानसभा क्षेत्रों में वीवी पैट मशीन का इस्तेमाल होगा। इससे मतदाता देख सकेंगे कि उन्होंने किस प्रत्याशी को अपना मत दिया है। इस बार पार्टियां निर्वाचन आयोग से स्टार प्रचारकों, जनसभाओं और रैलियों के लिए ऑन लाइन परमिशन ले सकती हैं।

वहीं, मतदाता भी आयोग से ऑन लाइन अपनी शिकायतों को भी दर्ज करा सकते हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी राधा रतूड़ी का कहना है कि चुनाव की तैयारी अंतिम चरण में है। प्रदेश अब चुनावी जंग के मुहाने पर पहुंचने जा रहा है।

फिलहाल जिस तरह से निर्वाचन आयोग की तैयारी चल रही है।इससे साफ है कि प्रदेश अब चुनावी जंग के लिए तैयार हो चुका है। अब पूरे प्रदेश की नज़रें निर्वाचन आयोग पर टिकी है कि आयोग प्रदेश में चौथे विधान सभा चुनाव की तारीख का कब ऐलान करता है


उत्तराखंड पर शीर्ष समाचार


x