दूसरी बार असफल हो सकता है यूरोप का मंगल मिशन

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-20 14:11:50
 दूसरी बार असफल हो सकता है यूरोप का मंगल मिशन

जर्मनी। मंगल पर जीवन से जुड़ी साहसिक खोज के तहत वहां उतरने वाले यूरोपीय अंतरिक्ष यान का धरती से उसके नियंत्रण कक्ष से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है। यान की स्थिति से बारे में भी कोई जानकारी नहीं मिल पा रही है। आशंका है कि शायद यह अंतरिक्ष यान मंगल ग्रह के दबाव को सहन नहीं कर पाया।

मंगल को भेजा गया यह यान 'शियापारेली'  छोटे बच्चे के आकार में काफी छोटा था। यान को मंगल ग्रह पर अंतर्राष्ट्रीय समय के मुताबिक बुधवार दोपहर 02.48 मिनट पर उतरना था। यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ईएसए) ने कुछ ही घंटों बाद विमान के मंगल पर उतरने की पुष्टि की लेकिन यह भी बताया कि यान कोई संकेत नहीं दे रहा है। इससे अभियान असफल होने की आशंका हो रही है।

यूरोप ने 13 साल पहले भी मंगल पर अंतरिक्ष यान भेजने की कोशिश की थी। ईएसए में यान के प्रबंधक ने एएफपी से कहा है, कि यान के सही-सलामत होने की उम्मीद बहुत कम है। अगर यह अभियान असफल रहता है, तो मंगल पर उतरने की यूरोप की यह लगातार दूसरी असफल कोशिश होगी।


दुनिया पर शीर्ष समाचार