भारत का हर मुसलमान पाकिस्तानी नहीं, ओवैसी के मुसलमान पाकिस्तानी क्यों?

Edited by: Shanker_Mishra Updated: 07 Feb 2018 | 08:13 PM
detail image

नई दिल्ली। लोकसभा में भारतीय मुसलमानों के हक में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) सासंद असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को एक विशेष प्रकार के कानून की मांग की। इसके तहत किसी भारतीय को कोई पाकिस्तानी कहता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। यही नहीं, ऐसा करने वाले लोगों को दंडित करने के लिए तीन साल की सजा का प्रावधान हो।

वहीं, ओवैसी की मांग के बाद BJP सांसद विनय कटियार ने कहा कि अगर मुसलमानों को पाकिस्तानी कहने पर सजा दिए जाने की बात है तो सजा उन लोगों को भी दी जानी चाहिए जो राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम नहीं गाते या फिर गीत का आदर नहीं करते। उन्होंने कहा कि सजा उन लोगों को भी दी जानी चाहिए जो राष्ट्रीय झंडे की बेइज्जती करते हैं, देश में पाकिस्तानी झंडा फहराते हैं।

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि मुसलमानों को इस देश में रहना ही नहीं चाहिए। देश के बंटवारे की वजह ही मुसलमान थे और जनसंख्या के आधार पर उनका बंटवारा कर दिया गया तो फिर उन्हें इस देश में रहने की आवश्यकता क्या है। उनकी मांग के अनुरूप उन्हें एक अलग भू-भाग दे दिया गया है वो वहां जाकर रहें। उनके लिए दो-दो देश हैं बांग्लादेश और पाकिस्तान वो जाएं और वहां जाकर रहें उनका यहां क्या काम है।

बता दें कि ये मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था की सपा नेता नरेश अग्रवाल ने एक और बेतुका बयान देकर पूरे राजनीति को गरमा दिया। उन्होंने संसद के मौजूदा सत्र में कहा, "हम कहते हैं शहादत खाली नहीं जाएगी, कोई हमारी तरफ आंख नहीं उठा सकता। रक्षा मंत्री भी रोज बयान देती हैं, पर आंख तो रोज उठ रही है। अगर आतंकवादी ये हाल कर रहे हैं, पाकिस्तानी फौज आ गई तो क्या हालत होगी। देश को कड़े निर्णय लेने चाहिए।"

ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या नरेश अग्रवाल को सेना पर 'संदेह' है? साथ ही एक सवाल और कि आखिर ओवैसी ने कौन सी ऐसी बुरी बात कह दी है, जो कटियार साहब के गले नहीं उतरी। जब देश में sc/st एक्ट है तो ओवैसी ने जो मांग की वो गलत कहां से? क्या देश में रहने वाला मुसलमान आतंकवादी है? क्या मुसलमानों को देश में रहने का हक नहीं है ?