फरीदाबाद: मां और बच्ची की मौत के बाद हॉस्पिटल ने थमाया 18 लाख का बिल

Edited by: Shivani Updated: 11 Jan 2018 | 02:41 PM
detail image

फरीदाबाद। निजी अस्पतालों की मनमानी का एक और मामला सामने आया है। फरीदाबाद के एशियन हॉस्पिटल में बुखार के इलाज के नाम पर 22 लाख रुपए वसूलने का आरोप लगा है। हॉस्पिटल में बुखार से पीड़ित एक गर्भवती महिला की 22 दिन के इलाज के दौरान मौत हो गई।

20 साल की श्वेता के साथ 7 साल की गर्भ में पल रही बच्ची की भी मौत हो गई। हॉस्पिटल ने मृत महिला के परिजनों को 18 लाख से भी ज्यादा बिल थमा दिया। इससे नाराज होकर अब परिजन अस्पताल के खिलाफ जांच की मांग कर रहे हैं।

फरीदाबाद के गांव नचौली निवासी सीताराम ने अपनी बेटी को 13 दिसंबर को बुखार के चलते एशियन हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। तीन-चार दिन के इलाज के बाद डॉक्टरों ने बताया कि बच्चा महिला के पेट में मर गया है और ऑपरेशन करना पड़ेगा। डॉक्टरों ने शुरू में साढ़े तीन लाख रूपए जमा कराने को कहा।

जब तक सीताराम रुपए जमा नहीं पाए तब तक ऑपरेशन नहीं किया। इसके चलते श्वेता के पेट में इंफेक्शन हो गया। श्वेता की हालत बिगड़ने के बाद उसे आईसीयू में ले जाया गया। उपचार के दौरान लगातार श्वेता के पिता से पैसे जमा कराए जाते रहे। आखिर में कुल 18 लाख का बिल थमा दिया गया। ऑपरेशन के दौरान श्वेता के गर्भ में पल रही 7 महीने की बच्ची मृत पाई गई।

इसके साथ ही सीताराम ने आरोप लगाया कि उसे श्वेता से मिलने भी नहीं दिया गया। उन्होंने बताया कि जब वह 5 जनवरी को आईसीयू में एडमिट श्वेता से मिलने गए तो उनकी बेटी बेसुध पड़ी हुई थी। इसके बाद उनसे पैसे मांगे गए। जब उन्होंने पैसे देने से मना कर दिया तो उसके कुछ देर बाद ही श्वेता को मृत घोषित कर दिया।