2 लाख कंपनियों का पंजिकरण रद्द, 1 लाख निदेशक अयोग्य घोषित

Edited by: Shivani Updated: 13 Sep 2017 | 04:47 PM
detail image

नई दिल्ली। दो लाख कंपनियों पर सरकार की गाज गिरने वाली है। दरअसल सरकार ने इन कंपनियों का पंजिकरण रद्द कर कर दिया है। बता दें कि मंत्रालय ने इन कंपनियों का पंजीकरण इसलिए रद्द किया है, क्योंक इनमें लंबे समय से कोई गतिविधि नहीं चल रही थी। सरकार का यह कदम काले धन पर प्रहार है।

इसके चलते एक लाख से अधिक निदेशक अयोग्य घोषित किए जाएंगे। सरकार ने इन निदेशकों की पहचान भी कर ली है। धारा 164 के तहत यह पहचान हुई है। बैंकों को यह निर्देश दिए गए है कि वह निदेशकों और प्रतिनिधियों के खातों के परिचालन पर रोक लगाएं।

ये भी पढ़ें- रिपोर्ट में खुलासा, ऑटोमेशन छीनेगा 7 लाख नौकरियां

इस धारा के अनुसार, अगर तीन साल तक किसी कंपनी का निदेशक लगातार अपने वित्तीय लेनदेन या वार्षिक रिटर्न दाखिल नहीं करता है, तो वह फिर से कंपनी में नियुक्त नहीं हो सकता है। इसके साथ ही अन्य कंपनी में नियुक्त होने के लिए पांच साल तक इंतजार करना होता है।