Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

हरी आंखों वाली 'अफगान गर्ल' पाक में गिरफ्तार

Edited By: Editor
Updated On : 2016-10-27 05:52:56
हरी आंखों वाली 'अफगान गर्ल' पाक में गिरफ्तार
हरी आंखों वाली 'अफगान गर्ल' पाक में गिरफ्तार

पेशावर। 'अफगान जंग की मोनालिसा' के नाम से मशहुर 'हरी आंखों वाली' शरबत गुला फर्जी पहचान-पत्र रखने के आरोप में पाकिस्तान में गिरफ्तार की गई हैं। उन्हें संघीय जांच एजेंसी (एफआइए) के अधिकारियों ने पेशावर के नोथिया इलाके से बुधवार को पकड़ा। उनके पति और दो बच्चों की तलाश की जा रही है।

1985 में 'नेशनल जियोग्राफिक' पत्रिका के कवर पर छपने के बाद शरबत को शोहरत मिली थी। अप्रैल 2014 में उन्होंने शरबत बीबी के नाम से पहचान-पत्र के लिए पेशावर में आवेदन दिया था। बीते साल उन्हें और उनके दो बच्चों को पहचान-पत्र दिया गया था। एफआइए सूत्रों के अनुसार जांच में तथ्य गलत पाए जाने के बाद उनकी गिरफ्तारी हुई है।

उनके पास पाकिस्तान और अफगानिस्तान दोनों देशों की नागरिकता है। दोनों देशों के पहचान-पत्र भी उनके घर से बरामद किया गया है। पहचान-पत्र जारी करने वाले अधिकारी को पहले ही अग्रिम जमानत मिल चुकी है। गौरतलब है कि पाकिस्तान में करीब तीस लाख अफगानी शरणार्थी रहते हैं। इनमें से हजारों ने पाकिस्तान का पहचान-पत्र बनवा रखा है।

वर्षो तक रहीं 'गुमनामशरबत' को शोहरत दिलाने वाली तस्वीर 1984 में स्टीव मैककरी ने पेशावर के निकट निसारबाग शरणार्थी शिविर में ली थी। उस समय उनकी उम्र 12 साल थी। नेशनल जियोग्राफिक के जून 1985 के अंक में कवर पेज पर इसे प्रकाशित किया गया।

इसके बाद वे दुनियाभर में 'अफगान गर्ल' के रूप में प्रसिद्ध हो गईं। नेशनल जियोग्राफिक ने उनके जीवन पर एक लघु वृत्तचित्र भी बनाया। तस्वीर प्रकाशित होने के बाद वह कई सालों तक गुमनाम रहीं। पत्रिका ने साल 2002 में उन्हें दोबारा खोज निकाला और मैककरी ने उनसे मुलाकात की।


दुनिया पर शीर्ष समाचार