गुरु नानक देव ने किया था पहली बार 'हिन्दुस्तान' शब्द का प्रयोग

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-14 15:22:46
गुरु नानक देव ने किया था पहली बार 'हिन्दुस्तान' शब्द का प्रयोग

नई दिल्ली। सिख समुदाय के 10 धर्मगुरुओं की कड़ी में पहला स्थान गुरु नानक देव का आता है। गुरु नानक देव का जन्म 1469 में कार्तिक मास की पूर्णिमा के दिन राएभोए के तलवंडी में हुआ था। इनके पिता का नाम कल्याण चंद मेहता और माता का नाम तृप्ता था।

बता दें कि तलवंडी को अब ननकाना साहब कहा जाता है जो वर्तमान में पाकिस्तान में स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि हिन्दुस्तान शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग गुरु नानक ने ही किया था।

ये भी पढ़ें- सुबह गुनगुना पानी पीने के हैं अनगिनत फायदे

मान्यता के अनुसार 1526 में जब बाबर ने देश पर हमला किया था तो गुरु नानक ने कहा था कि "खुरासान खसमाना कीआ, हिन्दुस्तान डराईआ।" ये पहली बार था जब हिन्दुस्तान शब्द का प्रयोग किया गया।

गुरुद्वारा जन्मस्थान सिख धर्म का सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ है। इसे महाराजा रंजीत सिंह ने बनवाया था। इसी स्थान पर सिखों के पहले गुरु, नानक देव का जन्म हुआ था। इसे ननकाना साहब के नाम से जाना जाता है।

गुरु नानक देव के दस सिद्धांतः

1. ईश्वर एक है।
2. सदैव एक ही ईश्वर की उपासना करो।
3. जगत का कर्ता सब जगह और सब प्राणी में मौजूद है।
4. सर्वशक्तिमान ईश्वर की भक्ति करने वालों को किसी का भय नहीं रहता है।
5. ईमानदारी से मेहनत करके धन अर्जित करना चाहिए।
6. बुरा काम करने के बारे में न सोचें और न किसी को सताएं।
7. सदा प्रसन्न रहना चाहिए। ईश्वर से सदा क्षमा मांगते रहना चाहिए।
8. मेहनत और ईमानदारी से काम करके उसमें से कुछ हिस्सा जरुरतमंद को देना चाहिए।
9. सभी स्त्री और पुरुष बराबर है।
10. भोजन शरीर को जिंदा रखने के लिए जरूरी है लेकिन लोभ-लालच और संग्रहवृत्ति बुरी है।