कच्चे तेल की कीमत हुई आधी, फिर भी पेट्रोल की कीमत ने छुआ आसमान

Edited by: Shivani Updated: 13 Sep 2017 | 01:45 PM
detail image

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में लगातार गिरावट आ रही है, लेकिन भारत में 2014 के बाद पेट्रोल और डीजल की कीमत ने आसमान छू लिया है।
पिछले तीन साल में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल के दाम 53 फीसदी तक कम हो गए है।

पेट्रोल डीजल की बात की जाए तो वह घटने की बजाय लगातार बढ़ते जा रहे है। एक अनुमान के अनुसार, पेट्रोल 10 रुपए से बढ़कर 22 रुपए हो गया है। एसएमसी ग्लोबल के रिसर्च हेड डॉ रवि सिंह की मानें तो, 1 जुलाई 2014 में कच्चे तेल का मुल्य 112 डॉलर प्रति बैरल था। ठीक उसी समय पेट्रोल का मुल्य 73.60 प्रति लीटर था।

ये भी पढ़ें- देखते ही देखते 2 महीने में बढ़ गई पेट्रोल डीजल के दाम

1 अगस्त 2014 को कच्चे तेल का मुल्य गिरकर 106 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। डीजल की कीमत की यदि बाद की जाएं तो यह 58.40 रुपए प्रति लीटर था। फिलहाल कच्चे तेल का मूल्य 54 डॉलर प्रति बैरल है।

जुलाई माह से पेट्रोल के मूल्य में लगातार वृद्धि हो रही है और आज के समय में यह अपने उच्चतम स्तर पर है। नए आंकड़ों के अनुसार देश में ईंधन की मांग में कमी आई है। अगस्त महीने में इसमें 6.1 प्रतिशत गिरावट आई है। इसका कारण देश के कुछ राज्यों में बाढ़ का आना है।

ये भी पढ़ें- 1 अगस्त से पेट्रोल-डीजल के दाम से होगी जेब ढीली, जानिए वजह

बाढ़ के कारण डीजल और पेट्रोल का प्रयोग कम होने से ईंधन की मांग कम हुई है। पेट्रोलियम मंत्रालय की माने तो, डीजल की मांग 3.7 प्रतिशत घटकर 59 लाख टन रही, जबकि पेट्रोल की बिक्री 0.8 प्रतिशत घटकर 21.9 लाख टन थी।