हरिद्वार: उत्तराखंड को मिला अलकनंदा का हक

Edited by: Aniket Updated: 17 Dec 2017 | 06:10 AM
detail image

हरिद्वार। यूपी से अलग हुए उत्तराखंड को यूं तो 17 साल से अधिक का समय बीत चुका है और इन बीते 17 सालों में दोनों राज्यों के बीच परिसंपत्तियों का विवाद कभी नहीं थामा, लेकिन अब यूपी में बीजेपी के नेतृत्व वाली योगी सरकार और उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सरकार बनने के बाद परिसंपित्तयों का ये विवाद जल्द ही थमने वाला है और इसकी शुरूआत यूपी सरकार ने हरिद्वार के बहुचर्चित होटल अलकनंदा को उत्तराखंड सौंपकर की है।

दोनों राज्य में बीजेपी की सरकार बनने के बाद यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के बीच मुलाकात हुई थी, जिसके कुछ दिनों बाद ही दोनों राज्यों की मुख्य सचिवों के बीच एक बैठक हुई।

इस बैठक के बाद से ही ये कयास लगाए जाने लगे थे कि उत्तराखंड को अपने निर्माण के 17 साल बाद अलकनंदा होटल का मालिकाना हक मिल सकता है। अलकनंदा होटल का मालिकाना हक मिलने के बाद सूबे के पर्यटन को भी काफी लाभ मिलेगा।

उत्तराखंड के इस बेशकीमती होटल को लेकर यूपी और उत्तराखंड के बीच कई बार बातचीत हुई थी, लेकिन अब दोनों राज्यों के आपसी समझौते के बाद यूपी सरकार इस होटल को उत्तराखंड को देने को तैयार हो गई है। बताया जा रहा है कि इस होटल की बदले उत्तराखंड यूपी को पास में ही एक स्थान उपलब्ध कराएगा।