सनसनीखेज खुलासा: हॉक रक्षा डील में बिचौलिए को दिए गए थे 82 करोड़ रु.

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-01 11:50:43
सनसनीखेज खुलासा: हॉक रक्षा डील में बिचौलिए को दिए गए थे 82 करोड़ रु.

लंदन। भारतीय रक्षा सौदों में एक और सनसनीखेज खुलासा सामने आया है। ब्रिटिश कंपनी रॉल्स रॉयस ने एक डिफेंस डील को हासिल करने के लिए भारतीय दलाल सुधीर चौधरी को करीब 82 करोड़ रुपए दिए थे।

एक रिपोर्ट के मुताबिक हथियारों के डीलर सुधीर चौधरी को कंपनी के अकाउंट से ही इन पैसों का भुगतान किया गया था। हालांकि सुधीर चौधरी के वकील के हवाले से यह भी कहा गया है कि उनके क्लाइंट ने न तो कभी किसी भारतीय अधिकारी को रिश्वत दी है और न ही किसी रक्षा सौदे में दलाल की भूमिका निभाई है।

बता दें कि सुधीर चौधरी ब्रिटेन के लिबरल ड्रेमोक्रैट नेता टिम फैरन और उनके परिवार के लिए भारत के सलाहकार के तौर पर काम करते थे। भारत सरकार ने सुधीर चौधरी को पहले ही ब्लैक लिस्ट भी कर रखा है। सुधीर फिलहाल लंदन में रह रहा है।

उल्लेखनीय है वर्ष 2014 में सुधीर चौधरी को ब्रिटेन में गिरफ्तार भी किया गया था, लेकिन सबूतों के अभाव में इन्हें छोड़ दिया गया।पड़ताल में यह भी खुलासा हुआ है कि सुधीर चौधरी को रुस की रक्षा कंपनियों ने भी क्रूज मिसाइल के नाम पर 2007-08 के बीच 100 मिलियन यूरो यानी करीब सात हजार तीन सौ करोड़ रुपए दिए हैं।

रॉल्स रॉयस ने कहना है कि वह जांच अधिकारियों के साथ पूरा सहयोग कर रहे हैं। साथ ही रॉल्स रॉयस ने जांच पर किसी तरह की टिप्पणी करने से इनकार भी किया है। गार्जियन के मुताबिक अब जांच में उन खास आरोपों की पड़ताल की जा रही है, जिसमें इन बिचौलियों की मदद से घूस दी गई।

गौरतलब है कि साल 2011 में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड और ब्रिटिश कंपनी रॉल्स रॉयस के बीच 10 हजार करोड़ का रक्षा सौदा हुआ था। यह सौदा हॉक जेट ट्रेनर के इंजन के लिए किया गया था। साल 2014 में ही इस सौदे पर दलाली लेने का खुलासा हुआ था और उसी वर्ष ही कंपनी से सौदे पर रोक लग गई थी। इस सौदे की सीबीआई जांच के आदेश भी दे दिए गए थे।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार