महागठबंधनःपासवान बोले, सौ लंगड़े 1 पहलवान नहीं बना सकते

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 17 Mar 2017 | 01:42 PM
detail image

नई दिल्ली। 2019 के लिए अय्यर द्वारा महागठबंधन के लिए विभिन्न पार्टियों को एक करने के विचार पर अब केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी बड़ा बयान देते हुए कहा कि 'सौ लंगड़े मिलकर एक पहलवान नहीं बन सकते।'

यह भी पढ़ें-राहुल को बदलने से पार्टी की दशा नहीं सुधरेगी: प्रिया दत्त

गौरतलब है कि अय्यर ने अपने ब्लॉग में यह भी माना था कि कांग्रेस को ज़मीनी स्तर पर काम करने की जरूरत है और इसके लिए उन्होंने जवाहरलाल नेहरू के दिए गए उस भाषण को याद किया जो उन्होंने 1936 में लखनऊ कांग्रेस में दिया था। उन्होंने कहा था 'हम आम जनता से संपर्क खो चुके हैं और उनसे मिलने वाली ऊर्जा से अछूते रह गए हैं, हम सूख रहे हैं और कमज़ोर पड़ रहे हैं और इस तरह हमारी संस्था अपनी ताकत खोते हुए सिमटती जा रही हैं।

अय्यर ने कहा कि सबको मिलकर चलने वाले रास्ते को दोबारा पकड़ने के लिए चुनावों में लड़ना और उसे जीते जाना बहुत जरूरी है। इसके लिए नेहरू का 1936 का विश्लेषण और सोनिया गांधी के 2004 में अपनाए गए यथार्थवाद रवैये को जोड़ना होगा। मौजूदा हालात में कांग्रेस को पार्टी में समावेश न करके गठबंधन में विभिन्न पार्टियों के समावेश पर विचार करना होगा।

यह भी पढ़ें-यूपी के CM पद की रेस में सतीश महाना चल रहें हैं आगे!

मणिशंकर अय्यर ने कहा कि कांग्रेस में राहुल गांधी की जगह कोई नहीं ले सकता। उन्होंने कहा कि यह हमारी पार्टी पर निर्भर करता है कि हम किसकी चुनेंगे, हमारी पार्टी में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो कि राहुल के खिलाफ खड़ा होना चाहता है, यदि कोई है तो खड़े हो जाएं, देखेंगे क्या होता है।

जब अय्यर से पूछा गया कि क्या आज अकेले कांग्रेस सक्षम है बीजेपी को रोकने में तो उन्होंने कहा कि यह सवाल करने की क्या जरूरत है। आंकड़े देख लीजिए, साफ नज़र आता है। मूर्ख ही होगा जो कहेगा कि आज के दिन मोदी को अकेले हम हरा सकते हैं, लेकिन बुद्धिशाली होगा, जो कहेगा कि 2019 में हम जीत सकते है और हम जीत जाएंगे।