नहीं मिला एंबुलेंस, 80 KM पत्नी की लाश घसीट कर घर पहुंचा रामुलु

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-07 12:41:59
नहीं मिला एंबुलेंस, 80 KM पत्नी की लाश घसीट कर घर पहुंचा रामुलु

हैदराबाद। ओडिशा के दाना मांझी की तस्वीर आपको याद होगी, जिसमें वह हॉस्पिटल से एंबुलेंस न मिलने के कारण बीवी की लाश को कंधे पर रखकर ले जाने को मजबूर थे। दिल को झकझोर देने वाला ऐसा ही एक मामला हैदराबाद से सामने आया है।

ताजा मामले में हैदराबाद में भीख मांगकर गुजारा करने वाले 53 वर्षीय  रामुलु एकेड को अपनी पत्नी की लाश को 80 किलोमीटर घर तक इसलिए घसीट कर ले जाना पड़ा, क्योंकि हॉस्पिटल ने उसे एंबुलेंस देने से मना कर दिया था और उसके पास गाड़ी किराए पर लेने के पैसे नहीं थे।

फुट- फुट कर बताई अपनी आपबीती

53 साल के रामुलु आपनी आप बीती बताते वक्त फुट- फुट कर रोने लगे। रामुलु की 46 वर्षीय पत्नी कविथा को लेप्रोसी थी और बीते शुक्रवार को उनकी एक लोकल हॉस्पिटल में मौत हो गई थी। रामुलु ने हॉस्पिटल से बीवी की लाश को अपने पैतृक गांव माईकोड ले जाने के लिए एंबुलेंस देने के लिए कहा, लेकिन उन्हें एंबुलेंस नहीं मिला।

अस्पताल वालों ने मांगे पैसे

सूत्रों के अनुसार हॉस्पिटल वालों ने रामुलु से एंबुलेंस उपलब्ध कराने के नाम पर 5000 रुपए की मांग की थी, लेकिन रामुलु के पास इतने पैसे नहीं थे इसलिए उसे गत्ते के बिस्तर पर बीवी की लाश को 80 किमी घसीटकर घर तक ले जाना पड़ा। रिपोर्ट कहती है कि 24 घंटे लगातार चलने के बाद रामुलु विकराबाद नाम की जगह तक पहुंच सका।

पहले भी सामने आ चुका है ऐसा मामला

इससे पहले ओडिशा के कालाहांडी में सिर से शर्म से झुका देने वाला मामला सामने आया था। कालाहांडी के रहने वाले दाना मांझी को अस्पताल ने एंबुलेंस या मोर्चरी वैन देने से इनकार कर दिया जिसके बाद उसे अपनी बीवी की लाश को कंधे पर रखकर 10 किलोमीटर तक ले जाना पड़ा था। 


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार