INS अरिहंत: पानी से भी परमाणु हमला करने को तैयार

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-18 11:01:22
INS अरिहंत: पानी से भी परमाणु हमला करने को तैयार

नई दिल्ली। भारत अपनी सैन्य क्षमता को मजबूत करने में एक बड़ी कामयाबी हासिल करने के लिए आगे बढ़ रहा है। जानकारी के मुताबीक पानी से परमाणु हमला करने में सक्षम आईएनएस अरिहंत बनकर तैयार है। भारत लंबे समय से जमीन, हवा और समुद्र से परमाणु लांच करने की क्षमता को हासिल करने के लिए प्रतीक्षारत था।

हालांकि भारत परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम अग्नि बैलिस्टिक मिसाइल और लड़ाकू विमानों को सैन्‍य बेड़े में पहले ही शामिल कर चुका है। एक हिन्दी अख़बर के मुताबिक देश की पहली स्वदेश-निर्मित परमाणु पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत का दिसंबर 2014 से समुद्री परीक्षण चल रहा था। यह पनडुब्‍बी 83 मेगावाट प्रेशराइज्‍ड लाइट वाटर रिएक्‍टर पर काम करती है।

750 किमी से 3500 किमी की दूरी तक परमाणु हमला करने में सक्षम यह पनुडुब्बी 750 किलोमीटर से 3500 किलोमीटर तक की दूरी तक परमाणु हमला करने में सक्षम है। हालांकि रूस, चीन और अमेरिका की तुलना में यह क्षमता कम है। इन देशों के पास 5000 किलोमीटर तक मार करने वाली सबमरीन लॉन्‍चड बैलिस्टिक मिसाइलें (एसएलबीएम) हैं।

आईएनएस अरिहंत भारतीय नौसेना के लिए बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। यह पनुडुब्बी बिना डिटेक्ट हुए दुश्मन पर हमला कर सकती है। यह अब तक की सबसे प्रभावी पनुडुब्बी मानी जा रही है। आईएनएस अरिहंत का वजन 6 हजार टन है। वहीं रक्षा मंत्रालय और नेवी ने कोई भी जानकारी देने से मना किया है। उनका कहना है कि यह एक रणनीतिक प्रोजेक्ट है और इस पर पीएमओ की सीधी नजर है। माना जा रहा है कि अभी आईएनएस अरिहंत को सेना में शामिल करने में थोड़ा वक्त लगेगा।

आईएनएस अरिहंत को ट्रायल के दौरान हर तरह के परीक्षण से गुजारा गया जिससे कि पानी में यह एक अहम हथियार साबित हो। हालांकि 'के' सीरीज की सबमैरीन लॉन्‍चड बैलिस्टिक मिसाइलों को पूरी तरह से इसमें लगाने में वक्‍त लगेगा। आपको बता दें कि 'के' सीरीज की मिसाइलों का नाम पूर्व राष्‍ट्रपति एपीजे अब्‍दुल कलाम पर रखा गया है।

 


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार