इस मंदिर में प्यार करने वालों को मिल जाता है सहारा

Edited by: Aniket Updated: 11 Dec 2017 | 05:27 AM
detail image

कुल्लू। अक्सर लड़के लड़की प्यार तो कर लेते हैं, लेकिन अपने प्यार को सुरक्षित रखने में असहज होते है। ऐसे में प्रेमी जोड़े अपने प्यार को सुरक्षित रखने के लिए दुनिया से इधर-उधर छिपते और भागते देखे जाते हैं। हिमाचल प्रदेश में कुल्लु के शांघड़ गांव में एक शंगचूल महादेव मंदिर है जो कि प्रेमी जोड़ो को सुरक्षित जगह प्रदान करता है। प्रेमी जोड़ों को सुरक्षा देने वाले शंगचूल महादेव मंदिर के बारे में जानिए कुछ बातें

शंगचुल महादेव मंदिर हिमाचल प्रदेश के कुल्लु के शांघड़ गांव में है जहां पर प्रेमी जोड़ों को सुरक्षित आश्रय दिया जाता है जहां कोई भी उन्हें किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचा सकता है।

शंगचुल महादेव मंदिर लगभग 100 बीघा के क्षेत्रफल के मैदान में फैला हुआ है। प्राचीन परंपराओं के अनुसार ही ऐसा माना जाता है कि मंदिर परिसर में आते ही प्रेमी जोड़ों को देवताओं की शरण में आया हुआ मान लिया जाता है जिसके बाद उन्हें अलग से सुरक्षा दी जाती है।

शांघड़ गांव में प्रेमी जोड़ों की सुरक्षा करने वाले इस मंदिर में पुलिस भी नहीं आ सकती है और साथ ही यहां पर लोगों के शराब, सिगरेट और चमड़े का सामान लाने पर भी प्रतिबंध है।
इस मंदिर में कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार की लड़ाई नहीं कर सकता है और साथ ही ना ही ऊंची आवाज में बात कर सकता है।

मंदिर के पुजारियों के अनुसार लोगों की ऐसी मान्यता है कि अज्ञातवास के दौरान यहां पर पांडव भी कुछ समय के लिए रुके थे। कौरव, पांडवों का पीछा करते हुए वहां तक आ गए थे जिसके बाद शंगचूल महादेव ने पांडवों की रक्षा की और साथ ही कौरवों को अपने मंदिर में प्रवेश भी नहीं करने दिया।

उसके बाद से ही महादेव शंगचुल मंदिर में जब भी कोई प्रेमी जोड़ा आता है तो फिर उसे यहां पर सुरक्षित शरण दी जाती है। जब तक प्रेमी जोड़े की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं हो पाती है तब तक मंदिर के पुजारी आदि उस जोड़े की सुरक्षा और देखभाल करते हैं।