एक लाख अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बना सकता है भारत

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-07 20:04:20
एक लाख अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बना सकता है भारत

नई दिल्ली। नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ अरविंद पनगढ़िया ने कहा कि भारत आगामी 15 साल में एक लाख अरब डॉलर से अधिक की अर्थव्यवस्था बन सकता है। पनगढ़िया ने भारत-चीन रणनीतिक आर्थिक वार्ता से इतर उद्योग एवं वाणिज्य संगठन फिक्की द्वारा नीति आयोग और चीन के राष्ट्रीय विकास एवं सुधार आयोग (एनडीआरसी) के सहयोग से आयोजित भारत-चीन निवेश कांक्लेव में यह बात कही। उन्होंने कहा कि जैसे पिछले 15 साल में चीन दो हजार अरब डॉलर से बढ़कर एक लाख अरब डॉलर से अधिक की अर्थव्यवस्था बना है, ठीक वैसे ही भारत भी अभी के दो हजार अरब डॉलर से बढ़कर आगामी 15 वर्षों में यह मुकाम हासिल कर सकता है।

उन्होंने कहा,'सुस्त पड़ती वैश्विक अर्थव्यवस्था में भारत और चीन दो आकर्षक बिन्दु हैं। बड़े विकासशील देश तथा प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्था होने के नाते भारत और चीन दोनों एकसाथ सतत विकास के लक्ष्य को प्राप्त करने और 2.6 अरब लोगों के जीवन को सुधारने में योगदान देने के वैश्विक प्रयासों का नेतृत्व कर रहे हैं।' पनगढ़िया ने कहा कि भारत का चीन के साथ व्यापार एवं निवेश संबंध हालिया वर्षों में तेजी से बढ़ा है। पिछले साल दोनों देशों के बीच करीब 71 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार हुआ है।

चीन के नेशनल डेवलपमेंट एंड रिफॉर्म कमीशन (एनडीआरसी) के चेयरमैन शु साओशी ने स्पष्ट रूप से कहा कि दोनों देशों के पास दुनिया को अधिक आकर्षक और प्रतिस्पर्धी जगह बनाने की क्षमता है। आपको बता दें साओशी व्यापारियों और सरकारी अधिकारियों के एक दल के साथ दो दिवसीय 6-7 अक्तूबर को भारत-चीन रणनीतिक आर्थिक वार्ता में भाग लेने के लिये यहां आए हुए हैं।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार