भारतीय सैनिक को छुड़ाने के लिए भारत करेगा पाक विदेश मंत्रालय से बात

Edited by: Editor Updated: 01 Nov 2016 | 09:58 AM
detail image

नई दिल्ली। अनजाने में लाइन ऑफ कंट्रोल क्रॉस कर जाने वाले भारतयी सैनिक चंदू बाबूलाल चव्हाण को वापस लाने के लिए भारत ने पाकिस्तान से कूटनीतिक रास्ता अपनाने का मन बनाया है। जवान चंदू को छुड़ाने के लिए भारतीय सरकार पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय से संपर्क साधने की तैयारी में है।

भारत के रुख में यह बदलाव काफी अहम माना जा रहा है। इससे पहले तक केवल भारतीय सेना के डीजीएमओ रणबीर सिंह ने पाकिस्तान की सेना से चव्हाण की रिहाई की मांग की थी। बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सेना ने डीजीएमओ की इस मांग का कोई जवाब नहीं दिया।

अब सरकार को यह बात महसूस हुई है कि इस मुद्दे को पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के सामने उठाने की जरूरत है। अबतक भारतीय विदेश मंत्रालय ने खुद को इस मामले से अलग ही रखा था। रक्षा मंत्री मनहोर पर्रिकर ने कहा था कि फिलहाल हालात ठीक नहीं हैं इस वजह से चंदू को वापस लाने में थोड़ा वक्त लग सकता है।

गौरतलब है कि, A 37 राष्ट्रीय राइफल के सिपाही चंदू बाबूलाल चौहान जो कि जम्मू कश्मीर के मेंडर सेक्टर में पोस्टिंग पर थे सर्जिकल स्ट्राइक के कुछ घंटों बाद लापता हो गए थे। बाद में पता लगा कि वह अनजाने में बॉर्डर पार करके पाकिस्तान चले गए। पहले तो पाकिस्तान चंदू के उसके पास होने की बात को नकारता रहा लेकिन बाद में उसने चंदू के उसके पास होने की पुष्टि की थी।

जवान चंदू के घरवाले उनकी हालत को लेकर सशंकित हैं। घरवालों को डर है कि चव्हाण को पाकिस्तान में प्रताड़ित किया जा रहा होगा।