Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

मानहानि केसः बहस के दौरान हाईकोर्ट में उलझ पड़े जेटली व जेठमलानी

Edited By: Vijayashree Gaur
Updated On : 2017-05-18 08:53:14
मानहानि केसः बहस के दौरान हाईकोर्ट में उलझ पड़े जेटली व जेठमलानी
मानहानि केसः बहस के दौरान हाईकोर्ट में उलझ पड़े जेटली व जेठमलानी

नई दिल्ली।अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मानहानि के मामले में केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली और वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी के बीच हाई कोर्ट में तीखी बहस हो गई। यह बहस दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मानहानि के मामले में जेटली से जिरह के दौरान हुई।

यह भी पढ़ें- छापेमारी पर बोले जेटली, अब हिसाब चुकाने का समय आ गया है

केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के अन्य नेताओं के खिलाफ दायर 10 करोड़ रुपए के दीवानी मानहानि के मुकदमे में जेटली का बयान दर्ज करने का काम जारी नहीं रह सका क्योंकि मंत्री ने मुख्यमंत्री का प्रतिनिधित्व कर रहे जाने-माने वकील द्वारा उनके खिलाफ इस्तेमाल किए गए शब्द पर आपत्ति जताई।

संयुक्त रजिस्ट्रार दीपाली शर्मा के समक्ष उपस्थित वित्त मंत्री अपना आपा खो बैठे और जेठमलानी से पूछा कि क्या केजरीवाल से निर्देश लेकर उनके खिलाफ इस शब्द का इस्तेमाल किया गया। जेटली ने कहा कि अगर ऐसा है तो मैं प्रतिवादी (केजरीवाल) के खिलाफ आरोपों को बढ़ा दूंगा।

उन्होंने कहा कि निजी दुर्भावना की भी एक सीमा है जेटली का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव नायर और संदीप सेठी ने भी कहा कि जेठमलानी अपमानजनक सवाल कर रहे हैं और उन्हें खुद को अप्रासंगिक सवाल पूछने से संयमित करना चाहिए क्योंकि यह मामला अरूण जेटली बनाम अरविंद केजरीवाल है और यह राम जेठमलानी बनाम अरूण जेटली नहीं है।

यह भी पढ़ें- लालू और चिंदबरम के ठिकानों पर छापेमारी के बाद गरमाई राजनीति, जानें प्रतिक्रिया

इसपर जेठमलानी ने कहा कि उन्होंने इस शब्द का इस्तेमाल केजरीवाल के निर्देश पर किया है। हालांकि, केजरीवाल की तरफ से एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड अनुपम श्रीवास्तव ने कहा कि शब्द के इस्तेमाल पर उन्हें कोई निर्देश नहीं मिला था आप नेताओं का बचाव कर रहे जेठमलानी समेत वकीलों के एक समूह ने यह भी कहा कि जेटली अपने कथित मानहानि के लिए 10 करोड़ रुपये के दावे के हकदार नहीं हैं

जेटली ने केजरीवाल और पांच अन्य आप नेताओं राघव चड्ढा, कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह और दीपक बाजपेयी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करके 10 करोड़ रुपये के क्षतिपूर्ति की मांग की थी इन नेताओं ने साल 2000 से 2013 तक डीडीसीए का अध्यक्ष रहने के दौरान जेटली पर वित्तीय अनियमितताएं करने का आरोप लगाया था।


राजनीति पर शीर्ष समाचार


x