बैन के बाद भी दिल्ली के संसद मार्ग पर जिग्नेश मेवाणी ने किया शक्ति प्रदर्शन

Edited by: PoojaDevi Updated: 09 Jan 2018 | 10:13 AM
detail image

नई दिल्ली। दलित नेता और गुजरात से पहली बार विधायक बने जिग्नेश मेवाणी मंगलवार को संसद मार्ग से पीएम निवास तक 'युवा हुंकार रैली' की। बता दें कि 26 जनवरी की सुरक्षा के मद्देनज़र रैली की इजाज़त नहीं दिए जाने के बाद भी संसद मार्ग पर एकत्रित हुए। इस विरोध प्रदर्शन को देखते हुए संसद मार्ग पर अवरोध लगाए गए हैं। संयुक्त पुलिस आयुक्त अजय चौधरी ने संवाददाताओंसे कहा, "किसी को भी (रैली आयोजित करने के लिए) इजाजत नहीं दी गई है। वहीं, जिग्नेश की रैली को देखते हुए पार्लियामेंट स्‍ट्रीट पर भारी संख्‍या में पुलिस बल तैनात किया गया। 

मेवाणी 
मेवाणी ने रैली के दौरान कहा, ''मोदी जी जितनी बार अहमदाबाद आते थे हमे डीटेन किया जाता था और आज हम दिल्ली आए हैं तो हमारे साथ भी यही कर रहे हैं। जिग्नेश ने कहा-22 साल से गुजरात के अंदर तोड़ने की लड़ाई हुई हम तो सिलाई वाले हैं जोड़ने आए हैं।

उन्होंने कहा, ''हम लव जिहाद वाले नहीं हैं. मेवाणी ने कहा, जिस तरह गुजरात में हार्दिक, अल्पेश और मैंने उनका 150 सीटों का घमंड तोड़ दिया, इसलिए हमें टारगेट किया जा रहा है. हम किसी जाति या धर्म के ख़िलाफ़ नहीं हैं. हम देश के संविधान को मानते हैं. हम फूले और अंबेडकर को मानने वाले हैं।''

उमर खालिद

हुंकार रैली में उमर खालिद ने कहा कि हमें चंद्रशेखर, रोहित वेमुला के लिए इंसाफ़ चाहिए। उमर ने कहा कि चंद्रशेखर देश के लिए नहीं बल्कि मनुवादियों के लिए भी खतरा है। ये सरकार मनुवादियों की सरकार है। हम सारे आंदोलनों को साथ लाएंगे। क्या रोज़गार मिला?, नफरत फैलाने से कुछ नहीं होगा।

 

 

नई दिल्ली के पुलिस उपायुक्त ने आज रात ट्वीट करते हुए, ''संसद मार्ग पर प्रस्तावित विरोध प्रदर्शन को एनजीटी के आदेश के मद्देनजर अबतक मंजूरी नहीं दी गई है। आयोजकों को वैकल्पिक जगह पर जाने की सलाह दी गई है जो वे स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं।''

वहीं, रैली से जुड़े कार्यकर्ताओं का कहना है कि 2 जनवरी को इस रैली के ऐलान के बाद से ही इसे रोकने की कोशिश की जा रही है। इस रैली का ऐलान करते हुए जिग्नेश ने कहा था कि हम पीएम नरेंद्र मोदी से मिलने जाएंगे।

बता दें कि पिछले दिनों भीमा कोरेगांव लड़ाई की सालगिरह पर हुई हिंसा के मामले में जिग्नेश मेवाणी और उमर खालिद के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। जिसके बाद जिग्नेश मेवाणी ने बीजेपी और आरएसएस पर निशाना साधा था।