अश्लील तस्वीरें देखते कैमरे में कैद हुए कर्नाटक के शिक्षा मंत्री

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-11 18:02:59
अश्लील तस्वीरें देखते कैमरे में कैद हुए कर्नाटक के शिक्षा मंत्री

नई दिल्ली। कर्नाटक के शिक्षा मंत्री तनवीर सैत एक कार्यक्रम के दौरान लड़कियों की अश्लील तस्वीरें देखते हुए कैमरे में कैद हो गए हैं। गुरूवार को टीपू जयंती के एक कार्यक्रम में तनवीर भी मौजूद थे और किसी ने ये वीडियो उसी दौरान उनके पीछे खड़े होकर शूट की है।उधर तनवीर ने अपनी गलती मानने से इनकार करते हुए कहा है कि वो सिर्फ व्हाट्सएप मैसेज चेक कर रहे थे।

आपको बता दें कि कर्नाटक रायचूर में गुरुवार को टीपू जयंती पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था जिसमें तनवीर सैत शामिल हुए थे। मंच पर बैठे सैत, कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर अपने मोबाइल पर अश्लील तस्वीरें देख रहे थे।

इससे जुड़ा वीडियो, कई कन्नड़ न्यूज चैनलों पर प्रसारित किया गया। वीडियो के सामने आते ही बीजेपी ने मंत्री पर पद की गरिमा को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाते हुए उनके इस्तीफे की मांग की है।

तनवीर का ये वीडियो सामने आने के बाद विपक्ष ने उनके इस्तीफे की मांग करनी शुरू कर दी है। विधानसभा में विपक्ष के नेता जगदीश शेट्टार ने कहा, 'यह शर्मनाक है, मैं इसकी निंदा करता हूं, अगर उनमें कोई शर्म बची है तो उन्हें तत्काल इस्तीफा देना चाहिए। प्रदेश के छात्र और शिक्षक देख रहे हैं कि किस तरह शिक्षा मंत्री सार्वजनिक कार्यक्रम में पॉर्न देख रहे हैं।' वहीं जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने कहा, 'ऐसा नहीं होना चाहिए था, देखते हैं कि सीएम इसमें क्या कार्रवाई करते हैं।'

वहीं अपने बचाव में मंत्री ने कहा कि इस्तीफा देने का सवाल ही नहीं उठता क्योंकि वह अपने मोबाइल पर आए वॉट्सऐप मैसेज को सिर्फ देख रहे थे, उन्होंने कोई अश्लील सामग्री सर्च या डाउनलोड नहीं की। सैत ने कहा, 'मेरी उन तस्वीरों को देखने की कोई मंशा नहीं थी। मुझे ऐसी आदत भी नहीं है। इसकी जांच होने दीजिए।' वहीं मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि वह इस विवाद पर रिपोर्ट मंगाएंगे और सैत से बात करेंगे।

गौरतलब है कि यह पहला मौका नहीं है जब किसी नेता को मोबाइल पर अश्लील तस्वीरें या पॉर्न वीडियो देखते हुए कैमरे में कैद किया गया हो। 2012 में कर्नाटक में ही विधानसभा में तीन बीजेपी विधायक पॉर्न देखते पकड़े गए थे। 2015 में ओडिशा विधान सभा के अध्यक्ष ने कांग्रेस के एक विधायक को सदन में पॉर्न विडियो देखने के मामले में सात दिनों के लिए सस्पेंड कर दिया था।


अन्य राज्य पर शीर्ष समाचार