जानिए कहां आग लगाकर किया जाता है बीमारियों का इलाज!

Edited by: Priyanka Updated: 18 Jan 2018 | 06:58 PM
detail image

नई दिल्ली। चीन में कई बीमारियों के इलाज के लिए फायर थेरेपी भी अपनाई जाती है। इलाज करने वाला मरीज के शरीर पर अल्कोहल का छिड़काव कर आग लगा देता है। चीन में कुछ लोग इसे खास तरह का इलाज मानते हैं जिससे तनाव, अवसाद, बदहजमी और बांझपन से लेकर कैंसर तक का इलाज संभव माना जाता है।

फायर थेरेपी के नाम से मशहूर ये विधि पिछले 100 से ज्यादा सालों से चीन में इस्तेमाल हो रही है। हाल में इसे मीडिया में खासी चर्चा मिली। हालांकि, इस बात के कोई प्रमाण नहीं है कि फायर थेरेपी वाकई कारगर है। इस विधि से इलाज करने वाले झांग फेंगाओ अपने काम के लिए काफी लोकप्रिय हैं। वो कहते हैं, “फायर थेरेपी मानव इतिहास में चौथी बड़ी क्रांति है। इसने चीनी और पश्चिम दोनों ही तरह की इलाज पद्धति को पीछे छोड़ा है।”

जानें कैसे होता है इलाज
फेंगाओ बीजिंग के एक छोटे से अपार्टमेंट में लोगों का इलाज करते हैं। उन्होंने एक मरीज की पीठ पर जड़ी बूटियों से बना एक लेप लगाया, उसे एक तौलिए से ढ़क दिया। फिर उस पर पानी और अल्कोहल का छिड़काव करते हुए वो कहते हैं, “इस विधि का इस्तेमाल करके लोग ऑपरेशन से बच सकते हैं।”

इसके बाद फेंगाओ ने अपना लाइटर जलाया और मरीज की रीढ़ की हड्डी पर आग की लौ को फिराया। 47 वर्षीय मरीज क्वी को हाल में ब्रेन हैमरेज हुआ था। तब से उनकी याद्दाश्त और शारीरिक गतिविधि भी प्रभावित हो गई है। वो कहते हैं, “बस थोड़ा गर्म महसूस होता है, इसमें दर्द नहीं होता।”

भयंकर बीमारियों के इलाज में भारी भरकम रकम खर्च करना हर किसी के बस की बात नहीं। ऐसे में सस्ते इलाज की भारी मांग है। झाओ जिंग को पीठ में बेहद दर्द था। पहले वो इस इलाज के बारे में जानकर बहुत हैरान हुए, लेकिन अब वो कहते हैं, “सब कुछ जानने के बाद अब मुझे डर नहीं लगता।”

जानें क्या है इस तरह के इलाज का सिद्धांत
इलाज का ये तरीका चीन की प्राचीन मान्यताओं पर आधारित है जिसके अनुसार शरीर में गर्मी और ठंडक के बीच सामंजस्य बनाने पर जोर दिया गया है। फेंगाओ के मुताबिक शरीर की ऊपरी सतह को गर्म करके अंदर की ठंडक दूर की जाती है। फायर थेरेपी से इलाज हाल में एक बार फिर चर्चा में आया जब एक मरीज की इलाज के दौरान खींची गई फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

फायर थेरेपी को लेकर चीनी मीडिया में कई सवाल भी खड़े हुए हैं, इनमें अहम है कि इलाज करने वाले के पास सर्टिफिकेट है या नहीं। इलाज के दौरान किसी दुर्घटना से बचने के लिए किस तरह की सुरक्षा व्यवस्था है, इत्यादि। फेंगाओ का कहना है, “कई बार लोगों को चोट भी आई है, कई बार मरीज चेहरे और शरीर के दूसरे हिस्सों पर जल भी गए, लेकिन ये सही तरीकों की कमी की वजह से हुआ।” मैंने हजारों लोगों को सिखाया और हमसे कभी कोई हादसा नहीं हुआ।