Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

जानिए क्यों 14 सितंबर को ही पूरे देश में मनाया जाता है हिन्दी दिवस!

Edited By: Shiwani Singh
Updated On : 2017-09-13 19:01:58
जानिए क्यों 14 सितंबर को ही पूरे देश में मनाया जाता है हिन्दी दिवस!
जानिए क्यों 14 सितंबर को ही पूरे देश में मनाया जाता है हिन्दी दिवस!

नई दिल्ली। हर साल14 सितंबर को देश में हिन्दी दिवस मनाया जाता है। इस दिन स्कूल,कालेजों और विश्वविद्यालयों में मात्र भाषा हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए संगोष्ठी और कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। आपको बता दें कि 10 जनवरी को विश्व हिन्दी दिवस भी मनाया जाता है जो पूरे विश्व के हिन्दी भाषीय देश मनाते हैं।

वहीं, बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें ये नहीं पता की आखिर 14 सितंबर को ही हिन्दी दिवस क्यों मनाया जाता है। आइए हम आपको बताते हैं हिन्दी दिवस मनाए जाने के पीछे का कारण और हिन्दी दिवस से जुड़ी कुछ खास और रोचक बातें-

1. बता दें कि 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने हिन्दी भाषा को लेकर एक निर्णय लिया था। इस निर्णय में कहा गया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा यानी राष्ट्रीय भाषा होगी। इसी महत्वपूर्ण निर्णय के चलते सन् 1953 से पूरे भारत में 14 सितंबर को प्रतिवर्ष हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

2. आपको जानकर हैरानी होगी की हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी का पूरे विश्व में बोली जाने वाली भाषाओं में चौथा स्थान है। मतलब पूरे विश्न में चौथे नंबर पर सबसे ज्यादा हिन्दी बोली जाती है, लेकिन हिन्दी भाषा पर अंग्रेजी के शब्दों का भी बहुत अधिक प्रभाव हुआ है। अंग्रेजी के कारण हिन्दी के कई ऐसे शब्द हैं जो प्रचलन से हट गए और अंग्रेजी के शब्द ने उनकी जगह ले ली है।

3. देश के ज्यादातर स्कूलों, कालेजों और विश्वविद्यालयों में राजभाषा सप्ताह या हिंदी सप्ताह 14 सितंबर को हिंदी दिवस से एक सप्ताह के लिए मनाया जाता है। इस पूरे सप्ताह अलग-अलग प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है। हिंदी पखवाड़ा 14 सितंबर से शुरू होकर 30 सितंबर तक चलता है।

4. बता दें कि 10 जनवारी को विश्‍व हिंदी मनाया जाता है। विश्व में हिन्दी दिवस मनाए जाने की शुरुआत महाराष्‍ट्र के नागपुर से 1975 में हुई थी। वर्ष 2006 में इसे आधिकारिक दर्जा और वैश्विक पहचान मिली थी।

5. आपको बता दें कि भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में से एक हिंदी है। हमारे देश के 77% लोग हिंदी लिखते, पढ़ते, बोलते और समझते हैं। हिंदी उनके कामकाज का भी हिस्‍सा है।

6. हिंदी की सबसे खास बात ये है कि इसमें जिस शब्‍द को जिस प्रकार से उच्‍चारित किया जाता है, उसे लिपि में लिखा भी उसी प्रकार जाता है।

7. आपको बता दें कि हिंदी शब्‍द मूल रूप से फारसी से उत्‍पन्‍न हुआ है। ये सिंधी सभ्‍यता से आए शब्‍द सिंध का अपभ्रंश है जो बाद में हिंद हो गया।

8. अंग्रेजी भाषा हिंदी पर हावी है लेकिन रोचक बात ये है कि अंग्रेजी की रोमन लिपि में शामिल कुछ वर्णों की संख्‍या 26 है, जबकि हिंदी की देवनागरी लिपि के वर्णों की संख्‍या ठीक इससे दोगुनी यानी 52 है।

9. हम आपको बता दें कि अमीर खुसरो पहले ऐसे व्‍यक्ति थे, जिन्‍होंने हिंदी में कविता लिखी थी। हिंदी भाषा के इतिहास पर आधारित काव्‍य रचना सर्वप्रथम एक फ्रांस के लेखक ने की थी। इस रचना का नाम‍ था 'ग्रासिन द तैसी'। बता दें कि अमेरिका की 45 यूनिवर्सिटी सहित समूचे विश्‍व के करीब 175 विश्‍वविद्यालय ऐसे हैं जहां पर हिंदी में पढ़ाई की जाती है।

10. हिन्दी में बोले जाने वाला नमस्‍ते शब्‍द ऐसा शब्‍द माना जाता है, जिसे सर्वाधिक बार बोला जाता है। एक अनुमान के अनुसार हर पांच में से एक व्‍यक्ति हिंदी में इंटरनेट का उपयोग करता है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x