लखनऊ: बिजली विभाग की कार्रवाई से किसान की मौत

Edited by: Aniket Updated: 17 Dec 2017 | 06:32 AM
detail image

लखनऊ। बिजली विभाग इन दिनों में पूरे प्रदेश में बिजली चोरी और न बिजली का बिल न जमा करने वालों के खिलाफ अभियान चला रहा है, लेकिन विभाग का ये अभियान सिर्फ-सिर्फ गरीब जनता और किसानों तक ही सीमित है।

दरअसल हम बात कर रहे हैं उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के खेड़ा गांव की जहां बिजली विभाग के अधिकारियों ने बिजली चोरी करने के आरोप में पहले तो एक किसान दिनेश यादव को 80 हजार रूपए का बिल थमाया औऱ फिर थाने में किसान के ऊपर बिजली चोरी का मुकदमा भी दर्ज करवा डाला।

बिजली चोरी के आरोप में जब किसान अपनी बात रखने के लिए थाने पहुंचा तो वहां मौजूद भ्रष्ट पुलिस अपसरों ने भी किसान दिनेश यादव से रिश्वत की मांग कर डाली बिजली विभाग की इस कार्रवाई और पुलिस के इस भ्रष्ट तंत्र को देखकर दिनेश यादव को ऐसा सदमा लगा कि उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। किसान दिनेश की मौत से गुस्साएं ग्रामीणों ने पुलिस और बिजली विभाग के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया।

मामूली बिल जमा न होने पर बिजली विभाग भले ही गरीब परिवारों की बत्ती गुल करने में लगा हो, लेकिन उसकी नजर कभी नेताओं के घर मुफ्त में जलने वाले हीटर और एसी पर नहीं गई। किसान की मौत के बाद से पीड़ित परिवार सदमे में है।

उसने बिजली विभाग पर जबरन वसूली करने का आरोप लगाया है। अब ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि योगी सरकार एक तरफ तो किसानों को अपना मित्र कहने में लगी है तो, दूसरी तरफ सरकार के इन विभागों के कारण किसानों को इस तरह की समस्याओं से जूझना पढ़ रहा है।