मालेगांव ब्लास्ट: कर्नल पुरोहित को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 21 Aug 2017 | 11:43 AM
detail image

नई दिल्ली। 2008 में हुए मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी कर्नल श्रीकांत पुरोहित को कोर्ट ने जमानत दे दी है। बता दें कि 18 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने कर्नल पुरोहित की जमानत याचिका को सुरक्षित रख लिया था। वहीं, इस दौरान कर्नल पुरोहित के वकील हरीश साल्वे ने कोर्ट से कहा कि बम धमाके से पुरोहित का कोई लिंक नहीं मिला है। वकील ने कहा कि अगर धमाके के आरोप हट जाते हैं तो अधिकतम सजा सात साल हो सकती है जबकि वह 9 साल से जेल में हैं। इस लिहाज से उन्हें न्याय के हित में जमानत मिलनी चाहिए।

यह भा पढ़ें-मालेगांव ब्लास्ट केस: तस्वीरों के जरिए जानिए पूरी कहानी!

पुरोहित की ओर से ये भी माना गया कि वह अभिनव भारत संगठन की मीटिंग में गए थे, लेकिन वह सेना की जासूसी के लिए वहां गए थे। पुरोहित ने कोर्ट में ये भी कहा कि उन्हें राजनीतिक क्रॉसफायर का शिकार बनाया गया है और ATS ने गलत तरीके से फंसाया है, जबकि NIA ने जमानत का विरोध करते हुए कहा है कि कर्नल पुरोहित को जमानत देने का ये उचित समय नहीं है।

यह भी पढ़ें-मालेगांव ब्लास्ट केसः साध्वी प्रज्ञा को बॉम्बे हाईकोर्ट ने सशर्त जमानत दी

गौरतलब है कि इसी साल 25 अप्रैल को 2008 के मालेगांव धमाका केस में बॉम्बे हाईकोर्ट से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को जमानत मिल गई थी। हाईकोर्ट ने प्रज्ञा पर लगाई गई मकोका धारा को भी हटा दिया था, जिसके बाद मकोका के तहत जुटाए गए सबूत भी केस से निकाल दिए गए। हालांकि इस मामले में कोर्ट ने कर्नल पुरोहित को जमानत देने से इंकार कर दिया था। हाईकोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को 5 लाख रुपए की जमानत राशि और अपना पासपोर्ट NIA को जमा कराने और साथ ही ट्रायल कोर्ट में हर तारीख पर पेश होने के आदेश दिए थे।