मणिपुर: बीरेन सरकार ने ध्वनिमत से जीता विश्वासमत

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 20 Mar 2017 | 12:26 PM
detail image

नई दिल्ली। मणिपुर में नवनिर्वाचित बीजेपी की सरकार अग्नि परीक्षा में पास हो गई है। 21 विधायको के समर्थन से सरकार बनाने बाली बीजेपी को आज विधानसभा में फ्लोर टेस्ट का सामना करना पढ़ा था और उन्होंने ध्वनिमत से विश्वास प्रस्ताव जीत लिया है।

यह भी पढ़ें-अन्य राज्य मणिपुर में पहली बार बनी BJP सरकार, एन.बिरेन सिंह बने CM

दरअसल, 11 मार्च को घोषित चुनाव परिणामों में मणिपुर की 60-सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस 28 सीटों के साथ अव्वल स्थान पर रही थी और बीजेपी को सिर्फ 21 सीटें मिल पाई थी। वहीं, कांग्रेस के अलावा अन्य विधायकों के समर्थन के दावों के साथ बीजेपी ने भी सरकार गठन का दावा पेश किया था, जिसे राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने मान लिया, और उन्हें न्योता दे दिया।

इसके बाद बुधवार, 15 मार्च को बीजेपी नेता एन बीरेन सिंह को मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई थी और एनपीपी नेता यूमनाम जयकुमार सिंह को डिप्‍टी सीएम के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई।

यह भी पढ़ें-मणिपुर में बनेगी BJP की सरकार, बीरेन सिंह होंगे नए मुख्यमंत्री

बीरेन सिंह को पिछले सोमवार (13 मार्च) को सर्वसम्मति से बीजेपी विधायक दल का नेता चुना गया था और उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात कर राज्य में अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया था। इबोबी सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री बीरेन ने मणिपुर की सेवा करने का मौका देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी नेतृत्व का आभार जताया था।

बीरेन सिंह को सरकार बनाने का निमंत्रण उस दिन दिया गया था, जब एनडीए में शामिल नगा पीपुल्स फ्रंट के चार सदस्यों ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार गठन के लिए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की।

यह भी पढ़ें-अन्य राज्य गोवा और मणिपुर में अटकी सरकार, दोनों जगहों पर कांग्रेस BJP से आगे

राजभवन सूत्रों ने बताया था कि नगा पीपुल्स फ्रंट के चार विधायकों ने राज्यपाल से मुलाकात की थी और बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की थी। गोवा के बाद मणिपुर दूसरा ऐसा राज्य बना, जहां हालिया संपन्न विधानसभा चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में नहीं उभरने के बावजूद बीजेपी की गठबंधन सरकार बन गई है।