1996 में मैच फिक्सिंग अपने चरम पर थी: शोएब अख्तर

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-18 19:43:58
1996 में मैच फिक्सिंग अपने चरम पर थी: शोएब अख्तर

कराची। पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने चैकाने वाल दावा किया है कि 1996 में मैच फिक्सिंग अपने चरम पर थी और कहा कि उस समय ड्रेसिंग रुप में माहौल अजीब था। अख्तर ने एक न्यूज चैनल से कहा, मुझ पर विश्वास कीजिए 1996 में ड्रेसिंग रूम का माहौल सबसे बदतर था।

उन्होंने कहा, सिर्फ क्रिकेट के अलावा काफी कुछ चल रहा था और ड्रेसिंग रूम में क्रिकेट पर ध्यान देना मुश्किल था। यह खराब माहौल था। उन्होंने ने कहा कि उन्होंने 2010 में बायें हाथ के तेज गेंदबाज मोहम्मद आमिर को सलाह दी थी कि वे इंग्लैंड में उन लोगों के दूर रहें जिनके चरित्र पर संदेह है।

अख्तर ने दावा किया कि उस दौरान उन्होंने मोहम्मद आमिर को भी ऐसे लोगों से मिलने-जुलने से बचने की सलाह दी थी, जो मैच फिक्सिंग के लिए खिलड़ियों को लालच दे सकते हैं। उल्लेखनीय है कि आमिर उसी वर्ष मैच फिक्सिंग के दोषी पाए गए थे जिसके चलते उन्हें पांच वर्षों का प्रतिबंध झेलना पड़ा। आमिर ने पिछले वर्ष दोबारा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी कर ली है।

यह विवाद तब पैदा हुआ था जब पूर्व क्रिकेटर मियादाद ने अफरीदी पर मैच फिक्स करने और खुद उसे ऐसा करते हुए पकड़ने का दावा किया था। अफरीदी ने मियांदाद को अदालत में घसीटने की धमकी दी लेकिन दोनों शनिवार को टेलीविजन पर एक साथ आये और उन्होंने घोषणा की कि वे अपने मतभेद भुला रहे हैं जिसको लेकर पूर्व क्रिकेटरों को लग रहा था मैच फिक्सिंग को लेकर नई कहानियां सामने आने से पाकिस्तान क्रिकेट को नुकसान होगा।


खेल पर शीर्ष समाचार