भारत को युद्ध की तरफ धकेल रही है मोदी सरकार: चीनी अखबार

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 05 Aug 2017 | 11:17 AM
detail image

नई दिल्ली। डोकलाम विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है और ना ही चीन अपने बयानों को रोक रहा है। इस बीच चीन ने एक बार फिर सीधे-सीधे मोदी सरकार पर निशाना साधा है। चीन की सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि मोदी सरकार भारत को जंग की ओर धकेल रही है। अखबार ने यहां तक कहा कि युद्ध होने की स्थिति में नतीजा जगजाहिर है।

चीनी अखबार ने लिखा कि डोकलाम में भारतीय सेना पीछे नहीं हटी तो युद्ध तय है और जंग होने पर नतीजा क्या होगा ये सभी जानते हैं। चीनी अखबार ने दंभ भरते हुए अपनी सेना को 50 साल में सबसे मजबूत बताया है। कम्यूनिस्ट पार्टी के अखबार के संपादकीय में लिखा गया है कि मोदी सरकार अपने लोगों से झूठ बोल रही है कि 2017 वाला भारत 1962 से अलग है। पिछले 50 सालों में दोनों देशों की ताकतों में सबसे बड़ा अंतर है।

अगर मोदी सरकार युद्ध करना चाहती है तो उसे कम से कम लोगों को सच्चाई बतानी चाहिए। अखबार ने कहा कि पीएलए ने सैन्य टकराव के लिए पर्याप्त तैयारी की है। मोदी सरकार पीएलए की ताकत के बारे में पता होना चाहिए। भारतीय सीमा पर तैनात सैनिक पीएलए क्षेत्र बलों के लिए कोई प्रतिद्वंद्वी नहीं हैं। युद्ध की स्थिति में पीएलए सीमा क्षेत्र में सभी भारतीय सैनिकों को खत्म करने में पूरी तरह सक्षम है।

अखबार का ये संपादकीय ऐसे समय में आया है, जब पिछले हफ्ते चीन की तरफ भारत से डोकलाम से तुरंत सेना पीछे करने को कहा गया है। अखबार ने कहा कि चीन ने संयम का प्रयोग किया है, साथ ही शांति और मानव जीवन के प्रति सम्मान का प्रदर्शन किया है। पीएलए ने पिछले महीने भी कोई कार्रवाई नहीं की थी, जब भारतीय सैनिकों ने चीनी क्षेत्र में बेवजह रूप से उल्लंघन किया।

अगर मोदी सरकार चीन की सद्भावना को कमजोरी मानती रही, तो यही लापरवाही विनाश की ओर ले जाएगा। भारत सार्वजनिक रूप से उस देश को चुनौती दे रहा है जो ताकत में कहीं ज्यादा श्रेष्ठ है। भारत की लापरवाही से चीनी हैरान हैं।