भारत से 3 लाख युवाओं को ट्रेनिंग के लिए जापान भेजेगी मोदी सरकार

Edited by: Web_team Updated: 12 Oct 2017 | 12:50 PM
detail image

नई दिल्ली। भारत में पहले से काम कर रहे लगभग 3 लाख युवाओं को 3 से 5 साल के प्रशिक्षण के लिए जापान भेजा जाएगा। केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया, ''सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम के तहत इन युवाओं को जापान भेजा जाएगा। भारतीय तकनीकी इंटर्न के कौशल प्रशिक्षण की लागत का बोझ जापान वहन करेगा।''

मंत्री ने बताया, ''केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और जापान के बीच तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम (टीआईटीपी) के लिए सहयोग के समझौते (एमओसी) पर दस्तखत को मंजूरी दे दी है।'' प्रधान ने कहा कि उनकी तीन दिन की टोक्यो यात्रा के दौरान इस एमओसी पर दस्तखत हो सकते हैं। बता दें कि प्रधान की तोक्यो यात्रा 16 अक्तूबर से शुरू हो रही है।

प्रधान ने कहा, ''प्रत्येक युवा को वहां तीन से पांच साल के लिए भेजा जाएगा। ये युवा जापान के पारिस्थितिकी तंत्र में काम करेंगे और उन्हें रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। इसके अलावा उन्हें वहां ठहरने की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाएगी। करीब 50,000 लोगों को जापान में नौकरी भी मिल सकती है। जापानी आवश्यकताओं के हिसाब से पारदर्शी तरीके से इन युवाओं का चयन किया जाएगा।''