Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

मां ने की भावुक अपील, बेटे ने छोड़ा आतंक का रास्ता

Edited By: Editor
Updated On : 2016-11-04 22:17:57
मां ने की भावुक अपील, बेटे ने छोड़ा आतंक का रास्ता
मां ने की भावुक अपील, बेटे ने छोड़ा आतंक का रास्ता

श्रीनगर। कश्मीर में एक मां की भावुक अपील पर आतंकी बेटे का दिल पिघल गया और उसने सुरक्षा बलों के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। आरोपी कश्मीरी युवक पाकिस्तान में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हो गया था।

सूत्रों के मुताबिक यह घटना बीती देर रात सोपोर के आंचलिक इलाके की है। खुफिया सूत्रों ने एक मकान में आतंकवादी की मौजूदगी का संकेत दिया था। इस सूचना के बाद सेना ने अन्य सुरक्षा एजेंसियों की मदद से इलाके की घेराबंदी कर ली थी।

सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने उस वक्त बताया कि मकान में छिपे आतंकी की पहचान उमक खालिक मीर उर्फ ‘समीर’ के तौर पर हुई है। जो उत्तरी कश्मीर में तुज्जार का रहने वाला है। युवक को बाहर निकालने के प्रयास बेकार साबित हो रहे थे। तब अधिकारियों ने उसके माता-पिता से उसे आत्मसमर्पण करने के लिए राजी करने का अनुरोध किया।

युवक के माता पिता का मकान वहां से पांच किलोमीटर दूर था। आरोपी की मां तुरंत राजी हो गई और उस जगह पर आई जहां युवक छिपा हुआ था। उन्होंने बेटे को अपनी कसम दी क्योंकि सेना ने उन्हें आश्वासन दिया था कि युवक के आत्मसमर्पण करने पर वे नरम रख अपनाएंगे।

एक अधिकारी ने बताया 'यह हमारे लिए बेचैन कर देने वाला क्षण था क्योंकि हम एक नागरिक के अलावा महिला के लिए कवच की तरह सुरक्षा दे रहे मेरे कुछ लड़कों की जान जोखिम में डाल रहे थे।’ मां को उस मकान के भीतर जाने और उसे अपने बेटे को आत्मसमर्पण के लिए राजी करने के लिए भेजा गया।

मां की मेहनत रंग लाई। काफी मनुहार के बाद मीर मकान से बाहर आ गया और उसने सेना के जवानों को एक एके राइफल, तीन मैगजीन, तीन हथगोले और एक रेडियो सेट सौंप दिया। 26 वर्षीय मीर इसी साल मई में लापता हो गया था। और वह लश्कर-ए-तैयबा आतंकी संगठन में शामिल हो गया था।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x