Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

इस गांव में मुस्लिम परिवार कई सालों से करते आ रहे हैं छठ

Edited By: Editor
Updated On : 2016-11-06 15:34:01
 इस गांव में मुस्लिम परिवार कई सालों से करते आ रहे हैं छठ
इस गांव में मुस्लिम परिवार कई सालों से करते आ रहे हैं छठ

नई दिल्ली। पूरे देश में छठ पूजा का महापर्व हर्ष और उल्लास से मनाया जा रहा है। छठ की तैयारियां में लोग पूरे उत्साह और श्रद्धा से जुटे हुए हैं। इन सबके बीच गोपालगंज के थावे प्रखंड का छठ पर्व खास हैं। इस प्रखंड के चनावे गांव में कई ऐसे मुस्लिम परिवार हैं, जो कई वर्षों से छठ करते आ रहे हैं। यह सभी परिवार धार्मिक सौहार्द्र और कौमी एकता की मिसाल पेश कर रहे हैं।

आपको बता दें कि चनावे गांव के 40 वर्षीय हसमुद्दीन अंसारी पेशे से ड्राइवर हैं। हसमुद्दीन अंसारी का परिवार और उनके परिवार के 4 सदस्य पिछले 3 साल से छठ पर्व मना रहा है। हसमुद्दीन के मुताबिक, छठ पर्व जैसे ही नजदीक आता है।

वे अपनी पत्नी खातून नेशा और मां के साथ गांव में बने पोखरा के किनारे छठ मैया की आकृति की साफ-सफाई करते है। छठ पूजा के दिन गाना-बाजा के साथ छठ घाट पहुंचते हैं और छठी मैया की पूजा करते हैं।

हसमुद्दीन अंसारी बताते हैं कि उनकी चार बेटियां हैं। उन्होंने छठी मैया से एक बेटे की मन्नत मांगी थी। मन्नत मांगने के बाद अगले साल ही उन्हें बेटा हुआ। बेटे होने की खुशी में उनकी पत्नी बीते 3 साल से छठ करती आ रही हैं।

हसमुद्दीन की पत्नी खातून नेशा का कहना है कि छठी मैया की कृपा से उन्हें बेटा हुआ। तब से वे पिछले 3 साल से छठ पर्व मना रही हैं। खातून नशा ने बताया कि उन्हें छठ पूजा के विधि-विधान के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। वे गांव की दूसरी हिन्दू महिलाओं के सहयोग से प्रसाद तैयार करती हैं। रीति-रिवाज पूरे अनुष्ठान से छठ पर्व मनाती हैं।

चनावे गांव के हसमुद्दीन कोई अकेले मुस्लिम परिवार नहीं है जो छठ पर्व मना रहे हैं। इस गांव के कई लोग बीते कई वर्षों से छठ पर्व मनाते हैं। थावे प्रखंड के यह चनावे गांव वर्षों से कौमी एकता की मिसाल पेश कर रहा है।


जीवनशैली पर शीर्ष समाचार


x