Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

निठारी कांड : आरोपी कोली को सुनाई गई मौत की सजा

Edited By: Editor
Updated On : 2016-10-07 14:24:32
निठारी कांड : आरोपी कोली को सुनाई गई मौत की सजा
निठारी कांड : आरोपी कोली को सुनाई गई मौत की सजा

गाजियाबाद। निठारी हत्याकांड में कोर्ट ने शुक्रवार को आरोपी कोली को सजा-ए-मौत की सजा सुनाई है। नंदा देवी हत्याकांड मामले में गाजियाबाद की एडीजे कोर्ट ने सुनवाई के दौरान मामले के आरोपी सुरेंद्र कोली मौत की सजा सुनाई है। गौरतलब है कि बुधवार को गाजियाबाद में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने उसे इस मामले में दोषी करार दिया था। इससे पहले निठारी कांड से संबंधित करीब पांच मामलों में उसे दोषी करार देते हुए कोर्ट पहले ही फांसी की सजा सुना चुकी है। बता दें कि इस पर सुप्रीम कोर्ट का स्टे है।

सीबीआई के जज पवन तिवारी ने सुरेंद्र कोली को उसके मालिक मनिंदर सिंह पंधेर के घर पर काम करने वाली 25 वर्षीय नौकरानी नंदा देवी की हत्या के मामले में दोषी ठहराया था। बता दें कि नंदा देवी 31 अक्तूबर 2006 को लापता हो गई थी। विशेष लोक अभियोजक ने बुधवार को सुनवाई के दौरान कोली को नंदा का अपहरण करने, उसकी हत्या, रेप करने और सबूत नष्ट करने का दोषी करार दिया था। इससे पहले साल 2014 में ही सुरेंद्र कोली को निठारी कांड में दोषी करार दिया गया था। उसे फांसी की सजा दी गई थी, उस वक्त कोली को मेरठ जेल में 12 सितंबर 2014 को फांसी दी जानी थी, लेकिन देश की शीर्ष अदालत ने उसकी फांसी पर रोक लगा दी थी।
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुरेंद्र उत्तराखंड के अल्‍मोड़ा के एक गांव का रहने वाला है। साल 2000 में वह दिल्‍ली आया था, 2003 में मोनिंदर सिंह पंढेर के संपर्क में आया था। उसके कहने पर नोएडा सेक्टर-31 के डी-5 कोठी में काम करने लगा। 2004 में पंढेर का परिवार पंजाब चला गया. इसके बाद वह और कोली साथ में कोठी में रहने लगे थे, जिसके बाद इस कांड का खुलासा हुआ था।


उत्तर प्रदेश पर शीर्ष समाचार


x