नोटबंदीः 30 फीसदी तक गिर सकती है मकानों की कीमत

Edited by: Editor Updated: 25 Nov 2016 | 05:36 PM
detail image

नई दिल्ली। 500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से आम आदमी के लिए घर खरीदना और आसान हो सकता है। देश के 42 शहरों में मकानों की कीमत 30 फीसदी तक कम हो सकती है। हालांकि रियल एस्टेट सेक्टर में यह कमी आने पर अभी 6 से 8 माह का वक्त लग सकता है। प्रोइक्विटी ऑनलाइन फर्म ने यह दावा किया है।

यह भी पढ़ें- रिलायंस रिफाइनरी में लगी आग, 2 लोगों की मौत

फर्म ने रिसर्च में बताया है कि 2008 के बाद डेवलपर्स द्वारा बेची गई और नहीं बिकी हुई आवासीय संपत्तियों का बाजार मूल्य 8 लाख करोड़ रुपए से भी ज्यादा घट जाएगा। साथ ही नोटबंदी के बाद 15 दिनों में सबसे ज्यादा लोगों ने कालेधन का इस्तेमाल रियल एस्टेट सेक्टर में इस्तेमाल करने का प्रयास किया है।

यह भी पढ़ें- 30 दिसंबर तक ट्रेन टिकट की ऑनलाइन बुकिंग पर नहीं लगेगा टैक्स

प्रोइक्विटी का कहना है कि नोट बंद किए जाने का सबसे ज्यादा असर रियल एस्टेट मार्केट पर पड़ेगा। इससे भारतीय प्रॉपर्टी बाजार का मूल्य अगले 6-12 महीने में 8 लाख करोड़ रुपए घट जाएगा। 42 शहरों में रियल एस्टेट सेक्टर का कुल बाजार मूल्य साढ़े 39 लाख करोड़ रुपए है, जो आने वाले समय में घटकर साढ़े 31 लाख करोड़ रुपए का रह जाएगा।

यह भी पढ़ें- आज रात से चलने बंद हो जाएंगे 500 और 1000 के पुराने नोट

बता दें कि सर्वाधिक 2 लाख करोड़ की गिरावट मुंबई में आएगी। बेंगलुरु में एक लाख करोड़ और गुड़गांव में 79 हजार करोड़ की गिरावट आ सकती है। प्रोइक्विटी के संस्थापक और सीईओ समीर जसूजा का कहना है, ‘हमें उम्मीद है कि सेकेंडरी मार्केट ट्रांजैक्शन (रिसेल) में कमी आएगी।