नोटबंदी : मणिपुर में अखबारों के दफ्तर हुए बंद

Edited by: Editor Updated: 18 Nov 2016 | 07:58 PM
detail image

इम्फाल। केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के कारण मणिपुर में अखबार कार्यालयों ने अपने दफ्तर बंद दिए हैं। अखबार कार्यालयों की ओर से कहा गया है कि उनके पास अखाबर छापने के लिए पैसे नहीं है, जिसके कारण दफ्तर बंद किए गए हैं। 

इसके परिणामस्वरूप शुक्रवार के बाद से मणिपुर में अखबार प्रकाशित नहीं होंगे। एक दैनिक अखबार के मालिक का कहना है कि जब तक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती है, कार्यालय बंद ही रहेंगे।

ये भी पढ़ेंः खाते में दूसरों का पैसा जमा कराना पड़ेगा महंगा, होगी कड़ी कार्रवाई! 

उन्होंने बताया कि,"विज्ञापनदाताओं के पास 500 और 2,000 रुपए के नए नोट नहीं हैं और प्रबंधन ने बंद हुए नोटों को स्वीकार करने से मना कर दिया है।"

वहीं, इस मामले में बीजेपी के वरिष्ठ नेता  निमयचंद लुवांग ने कहा कि  "जनवरी में होने वाले चुनावों पर इसका गहरा प्रभाव पड़ेगा। प्रेस के बिना लोकतंत्र असम्भव है, कांग्रेस सरकार मुद्राओं की पर्याप्त संख्या में मांग करने में असफल रहा है। इसके अलावा अधिकांश बैंक सुरक्षा संबंधी चिंता के चलते नकदी नहीं चला रहे हैं।"

ये भी पढ़ेंः नोटबंदी पर बोले अखिलेश, किसानों के लिए आपदा का समय 

मणिपुर के सभी अखबारों के प्रकाशक संघ और वितरकों द्वारा गुरुवार रात आयोजित एक आपात बैठक में अखबारों के कार्यालय को बंद करने का निर्णय लिया गया।