नोटबंदी पर बोले नायडू, विपक्ष संसद में बहस करने के लिए तैयार नहीं

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-19 12:29:51
नोटबंदी पर बोले नायडू, विपक्ष संसद में बहस करने के लिए तैयार नहीं

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा नोटबंदी के फैसले के बाद सदन में विपक्ष ने अड़ियल रुख अख्तियार कर रखा है। संसद के शीतकालीन सत्र को शुरु हुए 3 दिन का समय बीत चुका है लेकिन दोनों सदनों में सिर्फ हंगामा हुआ है। शुक्रवार को सरकार ने कहा कि जनमत विपक्षी पार्टियों के खिलाफ है जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीबों के मसीहा के तौर पर उभरे हैं।

विपक्ष की ओर से किए गए हंगामे के कारण संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित किए जाने के बाद केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू और संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने विपक्ष पर हमला बोला और कहा कि कांग्रेस संसद की कार्यवाही नहीं चलने देना चाहती ।

उन्होंने राज्यसभा में पीएम मोदी की मौजूदगी की विपक्ष की मांग खारिज कर करते हुए लोकसभा में मत विभाजन के नियम के तहत बहस कराने की मांग की।

नायडू ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मोदी देश के लोकप्रिय नेताओं के रूप में उभर रहें हैं, मोदी गरीबों के मसीहा के तौर पर उभर कर सामने आए है, लेकिन फिर भी विपक्ष को इस पर ऐतराज है।

नायडू ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी को सदन में बुलाने की मांग विपक्ष का दिखावा है और वह सदन को मुद्दे से भटकाने की कोशिश कर रही है। विपक्ष के पास तथ्य नहीं हैं और जनमत उसके खिलाफ जा रहा है। वे संसद नहीं चलने देना चाहते और उसी दिशा में बढ़ते लग रहे हैं।

नायडू ने विपक्षी पार्टियों पर प्रधानमंत्री के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वे मोदी की तुलना हिटलर और मुसोलिनी जैसे लोगों से कर रहे हैं ।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार